असम सरकार में मंत्री ने कहा, कांग्रेस सिखाती थी कि राम नहीं, बाबर हमारा भगवान है

0 228
भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यक्रम में असम सरकार में वित्त और स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने कांग्रेस पार्टी पर करारा हमला बोला। उन्होंने कहा कि, ‘कांग्रेस में सिखाया जाता था कि देश में धर्मनिर्पेक्षता है।’
कांग्रेस ने देश की स्वाधीनता संग्राम के महान नेताओं सुभाषचंद्र बोस और सरदार वल्लभभाई पटेल के योगदान को कमतर आंका। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि, ‘कांग्रेस की सेक्युलरिज्म की परिभाषा में राम हमारे भगवान नहीं है, बाबर हमारे भगवान है।’
लेकिन केंद्र में बीजेपी की सत्ता आने के बाद लोगों की भावना में बदलाव हुआ है। अब लोगों के मन में भाव है कि, बाबर हमारा दुश्मन था और राम हमारे भगवान।
असम के मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने कहा कि, श्रीमान नरेंद्र मोदी ने उत्तर पूर्वी राज्यों को “अष्ट लक्ष्मी” (देवी लक्ष्मी) के रूप में वर्णित किया है, उन्होंने बीजेपी की युवा मोर्चा की इकाई को सम्बोधित करते हुए कहा कि,
‘मुझे युवा मोर्चा में रहने का सौभाग्य नहीं मिला। मैंने अपने 25 साल कांग्रेस में रह कर बर्बाद कर लिए, ये आभास मुझे बीजेपी में आने के बाद हुआ।’ उन्होंने कहा कि जब मैं कांग्रेस में था तो
हमे ‘राहुल गाँधी की जय’ बोलना सिखाया जाता था, लेकिन जब मैं भारतीय जनता युवा मोर्चा के लोगों से मिलता हूँ तब, वो लोग ‘भारत माता की जय’ बोलते है।
उन्होंने कांग्रेस को दिशाहीन पार्टी बताते हुए कहा कि, ‘पार्टी GST को गब्बर सिंह टैक्स बताती है तो राफेल मुद्दे पर फिजूल में शोर कर रही। भारतीय जनता युवा मोर्चा की मजबूती से बीजेपी 2019 में पूर्ण बहुमत की सरकार बनायेगी।
हेमंत बिस्वा शर्मा ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि, नेता जी सुभाषचंद्र बोस और सरदार वल्ल्भभाई पटेल के बलिदान को पार्टी ने भुला दिया।
कांग्रेस कभी इन नेताओं का नाम अपनी मीटिंग में नहीं लेती। लेकिन मोदी सरकार में भूले हुए महान नेताओं को याद किया जाता है उन्हें उचित सम्मान दिया रहा है।
भारतीय जनता युवा मोर्चा का राष्ट्रीय अधिवेशन, ‘विजय लक्ष्य युवा महाधिवेशन’ के नाम से 26 से 28 अक्टूबर को हैदराबाद में हुआ था।
यह भी पढ़ें: अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट में थोड़ी देर में शुरू होगी सुनवाई
जिसका उद्घाटन गृहमंत्री राजनाथ और पूनम महाजन ने किया था। इस कार्यक्रम में देश भर के युवा मोर्चा के पदाधिकारियों के साथ मंडल स्तर के करीब 50000 कार्यकर्ताओं ने शिरकत की थी।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More