बावरिया गैंग ने कैशियर की हत्या कर लूटे थे दस लाख रुपये, हुआ खुलासा शूटर गिरफ्तार

0 181
पुलिस का दावा है कि नवरात्र के मौके पर अलवर में चार बदमाशों ने वारदात की साजिश रची और 14 दिन पहले रेकी करके कैशियर को चिह्नित किया था।

 

पड़ोसी के नौ साल के बच्चे को साथ लेकर तीर्थयात्रा के बहाने निकला शूटर पीजीआई क्षेत्र के एक होटल में ठहरा था।
लखनऊ के विभूतिखंड में 29 अक्तूबर को बैंक ऑफ इंडिया के सामने बिहारी गैस एजेंसी के कैशियर श्याम सिंह की हत्या करके 10 लाख की लूट राजस्थान के बावरिया गिरोह के चार बदमाशों ने की थी।
सनसनीखेज वारदात को अंजाम देने वाले गिरोह के शूटर सतवीर सिंह को पुलिस ने शनिवार को फैजाबाद रेलवे स्टेशन से दबोचा है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि कैशियर श्याम सिंह की हत्या के मामले में सीसीटीवी फुटेज और इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से राजस्थान के अलवर जिले के भीमनगर निवासी सुंदर बावरिया के बारे में अहम जानकारी मिली।

छानबीन पर उसके पड़ोसी सतवीर सिंह, सोनू सिंह और अनूप उर्फ अन्नू के नंबर ट्रेस हुए। इसके बाद सतवीर की लोकेशन ट्रेस कर लिया गया।

इलाहाबाद बैंक गार्ड की हत्या व लूट में गोंडा पुलिस को भी थी तलाश

एसएसपी ने बताया कि पता चला कि गोंडा कोतवाली पुलिस व क्राइम ब्रांच भी 10 अक्तूबर 17 को इलाहाबाद बैंक के गार्ड की हत्या व 50 लाख की लूट में गिरोह के पीछे लगी है।
वारदात अंजाम देने वाले शूटर सतवीर सिंह का लोकेशन ट्रेस करके क्षेत्राधिकारी गोमतीनगर अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव व प्रभारी निरीक्षक धीरेंद्र कुमार उपाध्याय की टीम ने उसे फैजाबाद रेलवे स्टेशन से दबोच लिया।

बैग से तमंचा, कारतूस और 1.53 लाख बरामद

सतवीर के कब्जे से पिट्ठू बैग में 1.53 लाख रुपये, .315 बोर का तमंचा व तीन कारतूस, हत्या व लूटकांड के दौरान पहने कपड़े, टोपी, गमछा व मास्क बरामद हुआ।
हरियाणा के गुड़गांव की पटौदी तहसील के गांव जटौली के मूल निवासी सतवीर ने कुबूला कि पटौदी तहसील के गांव हेली मंडी के मूल निवासी अनूप उर्फ अन्नू की मदद से वारदात अंजाम दी थी।

सुंदर व सोनू दूसरी बाइक से कुछ दूरी बनाकर चल रहे थे। इन सभी ने अब राजस्थान में रहते हैं।

तीर्थयात्रा के बहाने निकला वारदात अंजाम देने

बिहारी गैस एजेंसी के कैशियर श्याम सिंह की हत्या व लूटकांड करने वाला गिरोह बेहद शातिर है। पुलिस का दावा है कि शूटर सतवीर सिंह ने कुबूला कि नवरात्र के मौके पर सुंदर ने उसके घर आकर लूट की साजिश रची थी।
इसके लिए वह 13 अक्तूबर को अपने पड़ोसी के नौ साल के बेटे को साथ लेकर तीर्थयात्रा के बहाने निकला।

अलवर से हरिद्वार गया, लखनऊ आया रेकी की, दूसरे दिन जब कैशियर नहीं आया तो चला गया अयोध्या

एसएसपी कलानिधि नैथानी का कहना है कि सतवीर अलवर से हरिद्वार होते हुए 14 अक्तूबर को लखनऊ पहुंचा। पीजीआई इलाके के मधु पैलेस गेस्टहाउस में ठहरा था।
अगली सुबह सुंदर ने सड़क पर आकर मुलाकात की। उसके साथ घटनास्थल की रेकी की और बैंक में रकम जमा करने आए कैशियर श्याम सिंह को पहचाना।

अगले दिन फिर बैंक पहुंचा लेकिन श्याम सिंह पैसे जमा करने नहीं आया। इस पर वह बच्चे को साथ लेकर अयोध्या चला गया।

सरगना ने बताया था तीन का कैश होगा
तीर्थयात्रा के दौरान सुंदर से मोबाइल पर संपर्क बनाए रखा और 29 अक्तूबर को वारदात अंजाम देने की बात तय हुई।

सुंदर ने कहा था कि श्याम सिंह के पास तीन दिन का कैश होगा। इस पर 28 अक्तूबर को बच्चे के साथ बस से लौटा। इस बार पीजीआई इलाके के कैलाश लॉज में रुका था।
बच्चे को होटल के पास घूमने भेजा और रात नौ बजे सड़क पर आकर सुंदर, सोनू व अनूप से मुलाकात की। सुंदर ने मास्क, कैप व लोवर दिया।

सरगना गुर्गे के साथ राजस्थान से बाइक लेकर आया, रात को लिया जायजा

पुलिस अधीक्षक उत्तरी अनूप सिंह ने बताया कि सुंदर और अनूप राजस्थान से बाइक लेकर आए थे।

सुंदर ने अपनी बाइक पर सोनू को बैठाया और शूटर सतवीर सिंह अपने साथी अनूप के साथ बाइक पर सवार हुआ।

चारों ने रविवार 28 अक्तूबर की रात घटनास्थल का जायजा लिया और वारदात अंजाम देकर भाग निकलने के रास्तों पर बाइक दौड़ाकर पुलिस गश्त व पिकेट देखी।

अगली सुबह सतवीर ने साथ ठहरे बच्चे को कुछ पैसे देकर घूमने भेजा और खुद आठ बजे अनूप के साथ बाइक से निकल लिया।

चलती बाइक पर बदले कपड़े

सतवीर ने कुबूला कि उसने चलती बाइक पर अपनी शर्ट उतारकर अनूप के पिट्ठू बैग में रखी और उसमें से मिलिट्री जैसे कपड़े वाली टी-शर्ट पहनी।
कुछ दूरी पर बाइक रुकवाकर पैंट के ऊपर पट्टी वाला लोअर पहन लिया था। बैंक से कुछ दूरी पर पेट्रोलपंप के पास सुंदर और सोनू इंतजार कर रहे थे।
सुंदर ने लोडेड तमंचा थमाने के साथ कहा कि नोटों से भरा बैग लूटने में कैशियर विरोध करे तो गोली मार देना। इसके बाद अनूप की बाइक की पिछली सीट पर बैठे सतवीर ने कैप व मास्क लगाया और
बैंक के पीछे जाकर सड़क के दूसरी तरफ खड़े सुंदर के इशारे का इंतजार करने लगा।
ऐसे अंजाम दी वारदात
क्षेत्राधिकारी अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि कैशियर श्याम सिंह 10 लाख रुपयों से भरा बैग लेकर बैंक पहुंचा और पार्किंग में बाइक खड़ी कर रहा था।
इस बीच सुंदर के इशारे पर सतवीर उसके पास जा धमका। बैग छीनने के विरोध पर उसे पीठ पर गोली मारी।
नोटों भरा बैग लेकर सड़क की तरफ दौड़ा। वहां अनूप बाइक स्टार्ट किए खड़ा था।
सतवीर के सवार होते ही उसने बाइक दौड़ानी शुरू कर दी। सुंदर और सोनू अपनी बाइक से आगे चल रहे थे।

डेढ़ घंटे बाइक दौड़ाते रहे बेखौफ बदमाश
वारदात अंजाम देने के बाद बदमाशों ने पिकप ओवरब्रिज के नीचे से लोहिया अस्पताल का रास्ता पकड़ा।

गलियों में बाइक दौड़ाने के बाद बांसमंडी में सतवीर ने दूसरी बाइक पर सवार सुंदर को नोटों से भरा बैग थमाया।
लोअर और टी-शर्ट उतारकर अनूप के बैग में रखी। अपनी शर्ट पहन ली। इसके बाद हाइवे से रिंगरोड होते हुए मड़ियांव पहुंचे।
वहां से खदरा, पक्का पुल, ग्लोब पार्क के सामने से होकर कैसरबाग, लाटूश रोड से बांसमंडी चौराहा होते हुए चारबाग पहुंचे।
वहां सुंदर ने सतवीर को बच्चे को साथ लेकर शाम तक निकल जाने का आदेश दिया।

शॉपिंग करके लौटा होटल, हरिद्वार होते हुए गया अलवर

सतवीर ने कहा कि उसने चारबाग में गजक, आलमबाग में ट्रॉली बैग खरीदा। कुछ समय तक बाजार में घूमकर छिटपुट खरीदारी की और दोपहर 3:30 बजे ऑटो पर सवार होकर कैलाश लॉज लौटा।
बाहर घूम रहे बच्चे को साथ लेकर होटल में दाखिल हुआ। कर्मचारियों को लगा कि वह बच्चे के साथ बाजार से खरीदारी करके लौटा है।
यह भी पढ़ें: भाजपा के रहते अगर राम मंदिर नही बना तो कभी नही बन पाएगा: देवकीनंदन महाराज
कुछ देर में कमरा खाली किया और चारबाग रेलवे स्टेशन से ट्रेन पर सवार हुआ। हरिद्वार होते हुए अलवर लौट गया।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More