राम मंदिर पर मोदी सरकार वचनबद्ध है, लेकिन सरकार संविधान से बंधी हुई है: अमित शाह

0 344
मोहन भागवत ने दशहरे के सालाना कार्यक्रम में केंद्र की मोदी सरकार को अयोध्या में राम मंदिर बनवाने की याद दिलाई थी। भागवत ने कहा था कि राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाए जाने की जरूरत है। अब बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने बुधवार (24 अक्टूबर, 2018) को कहा कि उसे उम्मीद है कि
सुप्रीम कोर्ट का इस मामले पर फैसला जल्द आ जाएगा। सत्ताधारी पार्टी के इस रुख से पता चलता है कि वह इस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर सकती है।
सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने आरएसएस, उसके सहयोगी संगठनों और यूपी सरकार की समन्वय बैठक में बुधवार को ऐसे संकेत दिए।
सूत्रों के मुताबिक, इस पदाधिकारी ने यह भी कहा कि समाज का एक बड़ा तबका केंद्र सरकार की ओर से एससी-एसटी एक्ट के प्रावधानों को बनाए रखने के लिए विधेयक लाने को लेकर बेहद नाखुश है। सूत्रों के मुताबिक, शाह ने कहा कि
ऑर्डिनेंस लाने का फैसला सरकार के ‘सबका साथ, सबका विकास’ के वादे के तहत लिया गया। सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी नेताओं ने बैठक में यह भी कहा कि अगर 2019 में पार्टी के मनमुताबिक नतीजे आते हैं तो
पार्टी लंबे वक्त तक सत्ता में बनी रहेगी क्योंकि उसके पास ‘विजन’ है। 2019 के चुनाव में जीत से पार्टी और मजबूत होगी।
आरएसएस के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल ने राम मंदिर पर किसी तरह की चर्चा होने से इनकार किया। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि एक अनुषांगिक संगठन के पदाधिकारी ने इस मुद्दे को उठाया और कहा कि राम मंदिर जल्द से जल्द बनना चाहिए।
सूत्रों के मुताबिक, शाह ने जवाब दिया कि राम मंदिर पर मोदी सरकार वचनबद्ध है, लेकिन सरकार संविधान से बंधी हुई है। शाह ने बैठक में मौजूद लोगों से कहा कि
यह भी पढ़ें: कांग्रेस सत्ता और संगठन में बनाएगी महिलाओं की 50 प्रतिशत भागीदारी: राहुल
सुप्रीम कोर्ट इस मुद्दे पर सुनवाई शुरू करने वाला है और पार्टी को उम्मीद है कि फैसला जल्द से जल्द आ जाएगा।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More