भाजपा की केन्द्र और प्रदेश दोनों सरकारें खो चुकी हैं जनता का विश्वास : सपा

0 188
आजमगढ़, । समाजवादी पार्टी ने कहा है कि भाजपा की केन्द्र व प्रदेश की दोनों सरकारें हर मोर्चें पर विफल हो गयी हैं। चुनावों के दौरान जनता में झूठ पर झूठ बोलकर वर्गलाने का काम कर रहे हैं।

 

भाजपा बुनियादी सवालों से जनता का ध्यान हटाने के लिए तमाम हथकण्डे अख्तियार कर रही है। सपा का कहना है कि देश में अघोषित आपातकाल है। कोई विरोध में बोल रहा है तो
उसको फर्जी मुकदमों में फंसाया जा रहा है। सपा ने कहा है कि दोनों सरकारें जनता का विश्वास खो चुकी हैं, इसलिए जनता सन् 2019 में इसका जवाब देगी।
सपा के जिलाध्यक्ष हवलदार यादव ने आईपीएन से बातचीत में कहा कि आज पौने पॉच साल मोदी सरकार व डेढ़ साल से उपर योगी सरकार को हो गया है, लेकिन न तो कालाधान का पता चला और
न ही 5 साल में 10 करोड़ लोगों को नौकरी ही मिल पायी। मंहगाई आसमान छू रही है। किसान, गरीब मंहगाई की मार से त्रस्त हैं। पेट्रोलियम पदार्थों के दामों में लगातार वृद्धि से आवश्यक वस्तुओं के दाम आसमान छू रहे हैं।
बिजली में चार गुना वृद्धि, डीजल मूल्यों में वृद्धि की वजह से किसान की पैदावार प्रभावति हुई। गरीबों की गरीबी दूर करने के नाम पर ऐसी परिस्थिति है कि गरीब रोटी को मोहताज हो गया है।
भाजपा के प्रति जनता में भारी आक्रोश है। जिससे भाजपा हिन्दुत्व व राम मन्दिर के मसले को पुनः खड़ा कर रही है। जनता सब समझ रही है। काठ की हॉडी बार-बार नहीं चढ़ती।
हिन्दुत्व को किसी दूसरे धर्म से खतरा नही है बल्कि वर्षों से बड़े तबके के लोगों द्वारा पिछड़ों-दलितों का हक मारा जा रहा है। 
हवलदार ने कहा कि भाजपा की सरकार में जो भी नौकरियॉ दी गयी वह बड़े तबके व आरएसएस के लिए काम करने वालों को यूनिवर्सिटी व अन्य जगहों पर टीचर बनाया गया।
भाजपा आरक्षण व्यवस्था को खत्म करने पर आमादा है। शिक्षकों की भर्ती में बडे़ पैमाने पर घोटाला व बेईमानी की गयी। भ्रष्टाचार व गुण्डाराज चरम सीमा पर है। 
सपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि सीबीआई की पोल खुल गयी है। सीबीआई भ्रष्ट हो गयी है व सरकार के इशारे पर काम रही है।
यह भी पढ़ें: राम मंदिर पर मोदी सरकार वचनबद्ध है, लेकिन सरकार संविधान से बंधी हुई है: अमित शाह
घोटालों पर पर्दा डालने के लिए सीबीआई चीफ आलोक वर्मा को हटाया गया। 

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More