पति की मौत पर नहीं रोई पत्नी तो हुई जेल, सुप्रीम कोर्ट ने बरी किया

0 197
असम,। अगर आपसे कहें कि एक पत्नी को उसके पति की मौत पर न रोने की सजा के तौर पर जेल जाना पड़ा, तो शायद पहली नजर में आपका इस खबर पर यकीन करना मुश्किल हो।
हालांकि ऐसा एक मामला असम में देखने को मिला है। जहां एक महिला को स्थानीय अदालत ने पति की हत्या का दोषी माना और फिर गुवाहाटी हाई कोर्ट ने भी इस सजा को बरकरार रखा।
फिर यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और बुधवार को शीर्ष न्यायालय ने हाई कोर्ट के तर्क को खारिज करते हुए महिला को बरी करने का आदेश सुनाया। बता दें कि यह महिला पिछले पांच साल से जेल में बंद थी।
आपको बता दें कि निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखते हुए हाई कोर्ट यह दलील दी थी कि महिला का अपने पति की अप्राकृतिक मौत पर न रोना एक ‘अप्राकृतिक आचरण’ है,
जो बिना किसी संदेह महिला को दोषी साबित करता है। इतना ही नहीं, निचली अदालत और हाई कोर्ट ने इस बात पर भी जोर दिया कि पति की हत्या वाली रात अंतिम बार महिला अपने पति के साथ थी।
हत्या के बाद वह रोई नहीं, इससे उसके ऊपर संदेह गहराता है और यह साबित करता है कि उसने ही अपने पति की हत्या की है।
वहीं, इस मसले पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस आरएफ नरीमन और जस्टिस नवीन सिन्हा की पीठ ने कहा, ‘मौके पर मौजूद जो भी साक्ष्य हैं, उनके आधार पर यह कहना सही नहीं है कि
महिला ने ही अपने पति की हत्या की है।’ इसके साथ ही पीठ ने महिला को जेल से रिहा करने का आदेश दिया। पीठ ने फैसला सुनाते हुए आगे कहा कि
वास्तविकता तो यह है कि अभियोजन पक्ष के गवाह को महिला की आंखों में आंसू नहीं दिखे। अदालत ने इसे अप्राकृतिक व्यवहार मान लिया, लेकिन इसके आधार पर किसी को दोषी नहीं ठहराया जा सकता।
यह भी पढ़ें: कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी, बढ़ सकती है मुश्किलें

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More