शिकायतकर्ता ने कहा,‘बीजेपी नेता ने की जबरन किस करने और पकड़ने की कोशिश

0 174
शिकायत करने वाली महिला ने कहा कि बीजेपी नेता ने दो बार उसे जबरन किस करने की कोशिश की। कई बार पकड़ने की कोशिश की और उसे ‘अश्लील’ तस्वीरें भी भेजा करते थे। फोन पर बातचीत में महिला ने बताया कि वह एक बीजेपी कार्यकर्ता है।
दिल्ली की रहने वाली यह महिला 2006 से देहरादून में रह रही थी। उसका दावा है कि बीजेपी नेता ने इस साल पार्टी दफ्तर में कई बार उसका यौन उत्पीड़न किया। उसका कहना है कि वह ‘डेटा एंट्री के काम’ की वजह से वहां जाती थी।
हफ्ते भर पहले बीजेपी ने उत्तराखंड के संगठन महासचिव संजय कुमार को बर्खास्त कर दिया था। उन पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगे थे।
महिला का यह भी आरोप है कि बीजेपी नेता ने कार्यकर्ताओं से उसका फोन छिनवा लिया जिसमें उसके और नेता के बीच की कुछ बातचीत सेव थीं। उसका यह भी कहना है कि उसने अन्य नेताओं से कई बार इस बारे में शिकायत की, जिसे नजरअंदाज कर दिया गया।
बता दें कि आरोपी नेता संजय कुमार ने अभी तक इन आरोपों को कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। वहीं, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष अजय भट्ट ने 8 नवंबर को बताया था कि महासचिव को ‘उनकी दरख्वास्त पर’ पद से हटाया गया है। देहरादून पुलिस का कहना है कि उसे 4 अक्टूबर को महिला की तरफ से शिकायत मिली थी कि ‘दो लोगों’ ने उसका फोन ‘छीन’ लिया।
कुमार पर आरोपों के बारे में बताते हुए शिकायतकर्ता ने कहा, ‘फरवरी में मुझे पार्टी के फंड जुटाने की स्कीम आजीवन सहयोग निधि के तहत मिलने वाले बैंक चेकों के डेटा की एंट्री का काम दिया गया था। मैं डेटा एंट्री के काम के लिए हर रोज पार्टी के दफ्तर जाती थी।’ इसी दौरान बीजेपी नेता से उसकी पहचान हुई।
महिला ने बताया, ‘वह अभद्र टिप्पणियां करते थे। कम से कम दो बार उन्होंने मुझे जबरन किस करने की कोशिश की। वह इंटरनेट से डाउनलोड की गई अश्लील तस्वीरें नियमित तौर पर मुझे भेजते थे। उन्होंने वॉट्सऐप पर मुझे अपने प्राइवेट पार्ट की तस्वीरें भी भेजीं। हालांकि, भेजने के कुछ सेकंड बाद ही वह इन्हें डिलीट कर देते थे।’
महिला के मुताबिक, उसने मौखिक तौर पर कई बीजेपी कार्यकर्ताओं और नेताओं को इसकी शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। हर किसी ने बीजेपी नेता के खिलाफ सबूत मांगे। महिला के मुताबिक, ‘देहरादून में एक बीजेपी नेता ने कहा कि मैं अपने अनुभवों को बढ़ा चढ़ाकर पेश कर रही हूं।
पॉलिटिक्स में एंट्री करने वाली महिलाओं का पुरुष राजनेताओं के साथ शारीरिक संबंध बहुत सामान्य है।’ शिकायतकर्ता के मुताबिक, एक दोस्त के कहने पर उसने आरोपी नेता के साथ फोन पर होने वाली बातचीत को रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया।
यह भी पढ़ें: आलोक वर्मा को CVC जांच में क्लीनचिट नहीं, मीडिया रिपोर्ट्स का दावा
जब पर्याप्त सबूत इकट्ठे हो गए तो वह इन्हें देने पार्टी नेताओं के पास गई, लेकिन 4 अक्टूबर को उसका फोन अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा चीन लिया गया।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More