अपर्णा यादव लड़ सकती हैं शिवपाल की पार्टी से चुनाव

0 189
अब मुलायम परिवार की बहु ने भी राम मंदिर निर्माण का समर्थन किया है। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया से बात करते हुए सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहु अपर्णा यादव ने कहा है कि ‘मेरे ख्याल से राम लला का मंदिर बनना तो चाहिए।
हालांकि अभी माननीय सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई जनवरी तक टाल दी है। सर्वोच्च न्यायालय में मेरा पूरा विश्वास है और तब तक हमें इंतजार करना चाहिए।’
जब पत्रकार ने पूछा कि इसका मतलब ये है कि आप मंदिर के समर्थन में हैं? इस पर अपर्णा यादव ने भाजपा के स्टैंड का समर्थन करते हुए कहा कि ‘हां, वह मंदिर के समर्थन में हैं।’
गौरतलब है कि जहां एक तरफ अपर्णा यादव ने खुलकर अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का समर्थन किया है। वहीं उनके ससुर और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का रुख उनसे बिल्कुल जुदा रहा है।
सपा शुरु से ही राम मंदिर के मुद्दे पर भाजपा पर हमलावर रही है। बीते दिनों अपर्णा यादव एक कार्यक्रम के दौरान चाचा शिवपाल यादव के साथ नजर आयीं थीं।
बता दें कि शिवपाल यादव और अखिलेश यादव के बीच मनमुटाव जगजाहिर है। इसी नाराजगी के चलते शिवपाल यादव ने पहले सपा से अलग होकर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया और
फिर हाल ही में उन्होंने अपनी नई राजनैतिक पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन कर लिया है।
ऐसी खबरें हैं कि अपर्णा यादव शिवपाल यादव की पार्टी के टिकट पर अगला चुनाव लड़ सकती हैं। वहीं राम मंदिर के मुद्दे पर इससे पहले कई भाजपा नेता मुखर रुप से बयान दे चुके हैं।
भाजपा नेता गिरिराज सिंह ने तो राम मंदिर के मुद्दे पर अध्यादेश लाने की मांग तक कर दी है। हरियाणा सरकार में मंत्री अनिल विज ने भी सुप्रीम कोर्ट द्वारा राम मंदिर के मुद्दे पर सुनवाई टाले जाने पर हैरानी जतायी थी।
अनिल विज ने कहा था कि ‘सुप्रीम कोर्ट महान है, जो चाहे करे। चाहे याकूब मेमन के लिए रात के 12 बजे सुप्रीम कोर्ट को खोले, चाहे जो राम मंदिर का विषय है,
यह भी पढ़ें: तेलंगाना का यह 11 साल का लड़का,बड़े-बड़े इंजीनियरिंग छात्रों को पढ़ाता है
जिस पर लोग टकटकी लगाकर देख रहे हैं, उसको तारीख पर तारीख मिले। ये तो सुप्रीम कोर्ट की मर्जी है।’

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More