नौकरी के नाम पर नौ लाख रुपये की ठगी से आहत युबक ने लगायी फांसी

263

उ०प्र० लखनऊ : ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा… ये चंचल हवा। अपने सुसाइड नोट में यह गीत लिखकर लखनऊ निवासी यतींद्र कुमार तिवारी ने आत्महत्या कर ली। नौकरी के नाम पर उनके साथ नौ लाख रुपये की ठगी हो गई। इसी से आहत होकर उन्होंने फांसी लगा ली। तीन दिन बाद जब कल्याणपुर के सत्यम विहार स्थित किराये के कमरे से बदबू उठी तो घटना का पता चला। उन्होंने सुसाइड नोट के माध्यम से दंपति समेत पांच लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

 मूलरूप से लखनऊ के बालागंज, आजाद नगर निवासी यतींद्र के परिवार में पत्नी और पांच माह का बेटा है। वे 10 माह से सत्यम विहार निवासी बैंककर्मी अमित पांडेय के मकान में किराये पर रह रहे थे। मधुवन स्वीट हाउस के पास पान की दुकान लगाते थे। मकान मालिक ने बताया कि एक सप्ताह पहले पत्नी बेटे को लेकर घर चली गई थी।

शनिवार से यतींद्र का कमरा बंद था। सोमवार को बदबू आने पर उन्होंने कमरे का दरवाजा खटखटाया। इसके बाद पुलिस कंट्रोल रूम में सूचना दी। पुलिस जब कमरे का दरवाजा तोड़कर भीतर दाखिल हुई तो यतींद्र का शव फर्श पर पड़ा मिला। एक पैर बेड पर था।

तलाशी के दौरान कमरे से दो पन्नों का ससुसाइड नोट भी मिला।इसमें उन्होंने कर्ज लेकर नौकरी के नाम पर दी गई रकम वापस न मिलने और प्रताड़ना की बात लिखी थी। थाना प्रभारी वीर सिंह ने बताया कि सुसाइड नोट के आधार पर जांच की जा रही है।

लखनऊ R.J. ब्यूरो अखलेश दुबे की रिपोर्ट

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More