केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीनेशन के लिए आयुसीमा कब हटाएंगी

35

महाराष्ट्र सरकार ने इस बारे में केंद्र सरकार को चिट्ठी लिख कर 25 साल से ऊपर सभी को कोरोना का टीका लगवाने की इजाज़त माँगी है.वहीं दिल्ली की सत्ता पर क़ाबिज़ आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा प्रधानमंत्री से सवाल पूछ रहे हैं कि क्या भारत सरकार के लिए पाकिस्तान के लोगों के जान की क़ीमत, भारत के लोगों की जान की क़ीमत से ज़्यादा है. उनका इशारा वैक्सीन निर्यात के फ़ैसले को लेकर था

इसी तरह की गुहार राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा ने भी केंद्र सरकार से की है उन्होंने सोमवार को कहा प्रदेश में जिस तेज़ी से कोरोना संक्रमण फैल रहा है, केंद्र सरकार तुरंत कोरोना वैक्सीनेशन के लिए आयुसीमा को हटाएं  जिससे कम समय में अधिक लोगों का टीकाकरण कर संक्रमण के फैलाव को रोका जा सके इसके अलावा मंगलवार को ऐसी ही माँग इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी की. आईएमए ने प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर सुझाव दिया है कि 18 साल से ऊपर के सभी भारतीयों को कोरोना वैक्सीन लगवाने की इजाज़त सरकार को दे देना चाहिए

जब अलग-अलग हलको से इतनी माँग उठ रही है, तो आख़िर मोदी सरकार इस पर फ़ैसला तुरंत क्यों नहीं ले रही है मंगलवार को केंद्र सरकार के स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने संवाददाता सम्मेलन में इसका जवाब भी दिया.उन्होंने कहा,विश्व में हर जगह जिसको ज़रूरत, होती है उसे पहले टीका दिया गया है. ना कि जिसको चाहत होती है उसके. इसके लिए दुनिया के कई देशों जैसे ब्रिटेन, अमेरिका फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया का उदाहरण भी दिया  हर देश ने चरणबद्ध तरीक़े से उम्र सीमा के साथ टीकाकरण अभियान की शुरुआत की

कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए मोदी सरकार उम्र सीमा को फ़िलहाल क्यों नहीं हटा सकती?यही समझने के लिए हमने बात की डॉक्टर सुनीला गर्ग से. डॉक्टर सुनीला गर्ग मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज में कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के हेड हैं.उम्र के हिसाब से टीकाकरण अभियान की शुरुआत को वो सही ठहराती है. सरकार के फैसले के पीछे वो तर्क भी देती हैं

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More