कर्ज न दे पाने से परेशान पति व गर्भवती पत्नी ने लगाई फांसी, परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल

116

महोबा से एक दर्दनाक खबर सामने आ रही है। यहां एक मकान में पति और गर्भवती पत्नी का शव फंदे से लटका मिला है। परिजनों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस अभी इसे प्रथम दृष्टया आत्महत्या मां रही है। फिलहाल पुलिस अब घटना के सभी पहलुओं की जांच कर रही है। वहीं परिजनों का कहना है कि दोनों साहूकार से लिए गए कर्ज से परेशान थे।

2 साल पहले हुई थी दोनों की शादी

महोबा जनपद के कबरई थाना क्षेत्र अंतर्गत बरबई गांव में एक दंपत्ति का घर में फांसी के फंदे से लटका हुआ शव मिला। परिवार के लोग बताते हैं कि 2 वर्ष पूर्व भूपचंद्र अनुरागी का विवाह गोमती से हुआ था। परिवार में सब कुछ अच्छा चल रहा था। लेकिन साहूकारों से लिए गए कर्ज से पति पत्नी अक्सर परेशान रहते थे। आज अचानक सुबह घर के अंदर गर्भवती पत्नी गोमती और पति भूपचंद्र का शव फांसी के फंदे पर लटका मिला है।

वेल्डिंग मिस्त्री का काम करता था पति

मृतक भूपचंद्र के चचेरे भाई धनीराम बताता है कि भाई वेल्डिंग मिस्त्री का काम करता है। वह अपनी पत्नी के साथ परिवार से अलग रहता था। रात में सबकुछ ठीक ठाक दिखा था लेकिन सुबह जब उसकी मां उसके घर गयी तो दोनों के शव फंदे से लटके हुए मिले। मैं जब पहुंचा तो मेरे सिर के ऊपर दोनों लटक रहे थे। धनीराम ने बताया कि भाई ने साहूकार से कर्ज ले रखा था। जिससे दोनों परेशान थे।
गर्भवती बहू की मौत से परेशान है परिजन

वहीं बेटे और बहू की मौत से परिवार में रोना पीटना मचा हुआ है। मृतक की मां बार बार यही कह रही है कि बहू के गर्भ में पल रहे मेरे वंश की क्या गलती थी। उसे क्यों सजा दी गयी है। बहरहाल, परिजनों को लग रहा है कि साहूकार से लिए गए कर्ज को लेकर दोनों में रात में लड़ाई हुई है। जिसके बाद पति ने पहले पत्नी की हत्या कर फांसी पर लटका दिया। फिर खुद फांसी लगा ली।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More