UP बोर्ड के 100 साल के इतिहास में यह पहली बार, UP बोर्ड की 10वीं के बाद 12वीं की परीक्षा भी रद्द,

54

03 जून 2021

UP बोर्ड की 10वीं के बाद 12वीं की परीक्षा भी रद्द कर दी गई है। हाईस्कूल और 11वीं क्लास के नंबर के आधार पर 12वीं का रिजल्ट तैयार किया जाएगा। इसके लिए सरकार की तरफ से जल्द दिशा निर्देश जारी किए जाएंगे। सीएम योगी ने इस फैसले पर आखिरी मुहर लगाई। UP बोर्ड के 100 साल के इतिहास में यह पहली बार है जब इंटर की परीक्षा रद्द हुई है।

सीएम योगी ने गुरुवार सुबह लोक भवन में डिप्टी सीएम और शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। CBSE, ICSE के अलावा मध्यप्रदेश, गुजरात, उत्तराखंड, राजस्थान की सरकारें बोर्ड की परीक्षा रद्द कर चुकी थीं। ऐसे में पहले ही इस बात की प्रबल संभावना थी कि UP सरकार भी परीक्षा रद्द करेगी। UP बोर्ड की 10वीं की परीक्षा सरकार पहले ही रद्द कर चुकी है।

फैसले के बाद डिप्टी सीएम ने कहा कि संक्रमण को नियंत्रित करने में कुछ समय लग सकता है। इस वजह से पीएम नरेंद्र मोदी ने अलग-अलग प्रदेशों की समीक्षा की थी। इसके बाद केंद्र सरकार ने सीबीएसई बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया था। आज हमने UP बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने का फैसला लिया है। छात्रों की सुरक्षा को देखते हुए ये फैसला लिया गया है। हालांकि, बताया जा रहा है कि डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने 12वीं की परीक्षा कराने की तैयारी की थी। लेकिन कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सरकार ने परीक्षा रद्द करना बेहतर समझा।

करीब 30 मिनट तक चली बैठक

इससे पहले सीएम योगी के साथ डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा समेत शिक्षा बोर्ड के अधिकारियों के साथ करीब 30 मिनट बैठक चली। 10:30 बजे शुरू हुई बैठक 11:00 बजे समाप्त हुई। शिक्षा बोर्ड की ओर से तैयार की गई कमेटी ने रिपोर्ट मुख्यमंत्री के सामने पेश की। इसमें परीक्षा रद्द किए जाने के बाद परीक्षार्थियों के अन्य विकल्प के सुझाव दिए गए।

UP में 12वीं में 26 लाख परीक्षार्थी

UP बोर्ड 12वीं की परीक्षा के लिए 26 लाख 9 हजार 501 स्टूडेंट्स रजिस्टर्ड हैं। UP बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षाएं पहले ही रद्द कर दी गई हैं। CBSE और CICSE ने भी 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने की घोषणा की है। अब हाईस्कूल और 12वीं का रिजल्ट किस आधार पर तैयार किया जाए। इसके विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। सरकार ने इसके लिए एक अलग कमेटी भी बना दी है।

बोर्ड सचिव ने प्री बोर्ड के मार्क्स मांगे थे

बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ला ने 22 मई को ही सभी स्कूलों से क्लास 12 के प्री-बोर्ड और 11वीं के छमाही और वार्षिक परीक्षा के अंक मांगे थे, 28 मई तक अधिकांश स्कूलों ने स्टूडेंट्स के मार्क्स ऑनलाइन पोर्टल पर फीड कर दिए।

UP बोर्ड की भी तैयारी पूरी

बोर्ड ने कक्षा 12 की फरवरी में हुई प्रीबोर्ड परीक्षा का रिकॉर्ड मांगा है।
बोर्ड सचिव ने DIOS से 28 मई की शाम तक वेबसाइट पर अंक अपलोड करने का निर्देश दिया था।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More