ताजमहल के पीछे गंदगी के सवाल पर चकरा गए अधिकारी

81

राष्ट्रीय जजमेंट न्यूज आगरा

संवाददाता विष्णु कान्त शर्मा

दुनियां के सात अजूबों में शामिल ताजमहल अपनी खूबसूरती के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। लाखों सैलानी हर साल ताज की खूबसूरती को निहारने आते हैं लेकिन ताजमहल की एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जिससे प्रशासन की किरकिरी हो रही है। ‘ताजमहल की खूबसूरती के पीछे प्लास्टिक प्रदूषण’ ये कहना है दस साल की अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कार्यकर्ता लिसीप्रिया कं गुजम का। उन्होंने ताजमहल के पार्श्व में खड़े होकर ट्विटर पर एक फोटो साझा किया है। जिसमें ताजमहल के आगे नदी किनारे प्लास्टिक कचरा बिखरा पड़ा है। यह पोस्ट वायरल होने के बाद कमिश्नर अमित गुप्ता ने प्रशासन व नगर निगम से जवाब-तलब किया। नगर निगम ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि उस स्थान पर रोज सफाई कराई जाती है। असम के मनीपुर गांव में जन्मी लिसीप्रिया छह साल की उम्र से पर्यावरण संरक्षण को लेकर दुनियाभर में मुहिम चला रही हैं। संसद भवन के सामन उन्होंने 2019 में पर्यावरण परिवर्तन कानून और शिक्षा नीति में पर्यावरण को शामिल करने की मांग को लेकर विरोध-प्रदर्शन किया था।

जिसके बाद 2019 में ही उन्हें स्पेन के मेड्रिड शहर में आयोजित यूनाइटेड नेशन्स क्लाइमेट कॉन्फ्रेंस (सीओपी-25) में सबसे युवा पर्यावरविद् के रूप में ख्याति मिली। अब तक 32 देशों की 4000 से अधिक संस्थाओं में पर्यावरण जागरुकता के लिए भ्रमण कर चुकी हैं। लिसीप्रिया ने 21 जून को ट्विटर पर ताजमहल के पार्श्व में यमुना किनारे खड़े हुए अपना एक फोटो ट्वीट किया है। उनके हाथ में एक पोस्टर है। पोस्टर पर लिखा है ‘बिहाइंड द ब्यूटी ऑफ ताजमहल इज प्लास्टिक पॉल्यूशन’ यानी ताजमहल के खूबसूरती के पीछे प्लास्टिक प्रदूषण है। उन्होंने लिखा है कि ताजमहल देखने के दौरान अपने यह नजारा देखा होगा।

आप कह सकते है यह बहुत प्रदूषित है, लेकिन आपके पॉलिथीन बैग का एक टुकड़ा, पानी की बोतल ने इस हालात पैदा किए हैं। जब हर साल यहां लाखों लोग आते हैं। उनके इस फोटो को दो हजार से अधिक लोग रीट्वीट कर चुके हैं। सात हजार से अधिक लोगों ने लाइक किया है। फोटो वायरल होने के बाद आगरा मंडल के कमिश्नर अमित गुप्ता ने संबंधित अधिकारियों से जवाब तलब किया। जिसके बाद बुधवार को नगर निगम ने अधिकृत हैंडल से ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि जब यमुना नदी में जलस्तर घट जाता है तो प्लास्टिक कचरा इकठ्ठा हो जाता है।

कमिश्नर अमित गुप्ता ने कहा कि हमारी टीम नियमित सफाई कराती है। इसके साथ ही बुधवार को मौके के फोटो भी निगम ने ट्वीट किए हैं। जानकारों के अनुसार यह फोटो 27 मई का बताया जा रहा है। लिसीप्रिया इन दिनों लखनऊ में क्लाइमेंट चेंज लॉ की मांग को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रही हैं।
राष्ट्रीय जजमेंट न्यूज आगरा

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More