बेरहम पिता ने तीन साल के बेटे का गला दबाया, मरा समझकर झाड़ियों में फेंका शव

191
फरीदपुर में शनिवार रात को पत्नी से विवाद के बाद शराब के नशे में धुत बेरहम पिता ने तीन साल के बेटे का गला दबाया। उसे मरा समझकर झाड़ियों में फेंक दिया। रिश्तेदार की सूचना पर पहुंची पुलिस ने दो घंटे की मशक्कत के बाद चौबारी से बच्चे को जिंदा बरामद कर मां को सौंप दिया। फरीदपुर पुलिस ने आरोपी पिता का शांति भंग में चालान कर जेल भेज दिया है।
मेहतरपुर तिजासिंह गांव निवासी रामलखन शनिवार को शांति नगर कॉलोनी में अपने चाचा भीमसेन के यहां पत्नी रेखा और तीन वर्षीय बेटे देव को लेकर आया था। कुछ देर रुकने के बाद रामलखन ने पत्नी से वापस घर चलने को कहा, लेकिन राम लखन को नशे में देख पत्नी ने वहीं रुकने की जिद पकड़ ली।
इससे रामलखन ने नाराज होकर बिशारतगंज की रिश्तेदारी में जाने की बात कहकर घर से निकल गया। वह मासूम देव को गोद में लेकर घर से निकला, लेकिन रात में भसोकर गांव के अपने फूफा नन्हें लाल के यहां अकेला पहुंचा और वहीं रुक गया।
फूफा ने रामलखन से देव के बारे में पूछा, तो उसने चौबारी गांव के टेंपो स्टैंड के पास उसकी हत्या कर शव झाड़ियों में फेंकने की बात कही। नन्हें ने आनन-फानन में फरीदपुर पुलिस को सूचना दी, जिस पर फरीदपुर इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह ने टीम के साथ रामगंगा कटरी में कांबिंग शुरू की।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More