भारत और इंग्लैंड के बीच चौथा t-20 मुक़ाबला आज, सीरीज मे वापसी हेतु इंडिया को जीतना होगा आज का मुक़ाबला

46

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टी-20 सीरीज का चौथा मुकाबला गुरुवार को खेला जाएगा। सीरीज में अगर टीम इंडिया को बराबरी करनी है तो उसे किसी भी हाल में यह मुकाबला जीतना होगा। फिलहाल सीरीज में इंग्लैंड 2-1 से आगे हैं। चौथे मुकाबले में अगर टीम इंडिया को जीत दर्ज करनी है तो उसे इन चार गलतियों पर ध्यान देना होगा।

सलामी जोड़ी

चौथे टी-20 में भारतीय टीम को सलामी जोड़ी पर ध्यान देने की दरकार है। टीम ने पिछले टी-20 मैचों में हमेशा यहां प्रयोग किया है। पहले दो मैचों में रोहित शर्मा नहीं खेले थे। पहले टी-20 में केएल राहुल के साथ धवन ने ओपनिंग की थी। वहीं दूसरे टी-20 में ईशान किशन से ओपनिंग कराया गया था, जबकि तीसरे टी-20 रोहित की वापसी हुई और उन्होंने केएल राहुल के साथ ओपनिंग करने उतरे थे। इसके इतर, पिछले तीन मैचों में राहुल का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा है। बावजूद वह टीम में बने हुए हैं। ऐसे में चौथे मैच में भारतीय सलामी जोड़ी को एक अच्छी शुरुआत करनी होगी।

प्लेइंग इलेवन में बदलाव

चौथे टी-20 में बड़े बदलाव की गुंजाइश तो कम है। मगर तीसरे मैच के बाद कोहली के बयान पर गौर करें तो हार्दिक पांड्या और वाशिंगटन सुंदर के साथ टीम में एक अन्य ऑलराउंडर को जगह मिल सकती है और वह पदार्पण का इंतजार कर रहे राहुल तेवतिया और अक्षर पटेल में से कोई एक हो सकता है।

गेंदबाजी में बदलाव

भारतीय टीम को चौथे टी-20 में गेंदबाजी में बदलाव करने की जरूरत है। चौथे टी-20 में भारत को कम से कम पांच गेंदबाज खिलाने ही चाहिए। चोट के बाद वापसी करते हुए पहली श्रृंखला खेल रहे भुवनेश्वर कुमार ने किफायती गेंदबाजी की है, लेकिन टीम को उनसे उम्मीद है कि वह नई गेंद से नियमित विकेट चटकाएं। वहीं युजवेंद्र चहल ने पिछले सभी मुकाबलों में रन लुटाए हैं। पिछले टी-20 में शार्दुल भी काफी महंगे साबित हुए थे।

खराब फील्डिंग

भारत को अगर चौथा टी-20 जीतना है तो उसे फील्डिंग पर बखूबी ध्यान देना होगा। पिछले मुकाबले में भारत ने विराट कोहली की कप्तानी पारी की बदौलत 156 रन बनाए थे। भारतीय टीम ने उन मौकों पर कैच छोड़े, जब टीम को विकेट की तलाश थी। विराट कोहली और युजवेंद्र चहल ने बटलर के कैच छोड़े, जो टीम इंडिया की हार की वजह बनी। चौथे मुकाबले में भारतीय टीम को इससे बचना होगा।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More