स्लीमनाबाद बहोरीबंद अन्य क्षेत्रों में रोजगार गारंटी योजना में लगा काम, मजदूरी न मिलने से श्रमिक परेशान

49

आर जे न्यूज़

कटनी | रोजगार गारंटी योजना में जिले में कई पंचायतों में काम लगा हुआ है लेकिन समय से मजदूरी नहीं मिल पा रही है जिससे श्रमिक परेशान हैं स्लीमनाबाद के मटवारा गांव में गुरूवार को मेढ़ बंधान कार्य में लगे श्रमवीर भरतलाल, शिवकुमारी, गिरिजा बाई, रामसखी बाई व राधाबाई मजदूरी के बाद समय पर भुगतान नहीं होने से परेशान हैं। इन परिवारों को बारिश पूर्व भुगतान नहीं होने के कारण घर में जरुरी इंतजाम की चिंता भी सता रही है। मजदूर बताते हैं कि डेढ़ माह से मेढ़बंधान व पीएम आवास में काम कर रहे हैं।

कई पंचायतों में भ्रष्टाचार एवं धांधली की भी शिकायत आती है लेकिन उन पर कार्रवाई नहीं की जाती चाहे मामला हो बिलहरी पंचायत का,या इमलाज मजदूरी का भुगतान किश्तों में होने से पैसा काम भी नहीं आ रहा। जानकार बताते हैं कि मनरेगा में काम के बाद समय पर मूल्यांकन नहीं होने के कारण मजदूरों को भुगतान के लिए परेशान होना पड़ रहा है। मूल्यांकन का काम इंजीनियर करते हैं। मजदूर बताते हैं कि मूल्यांकन से पहले इंजीनियरों की अपनी शर्तें होती है।

कई बार पंचायत के सरपंच, सचिव व रोजगार सहायक को काम के बाद मूल्यांकन के लिए इंजीनियरों के चक्कर लगाते भी परेशान होना पड़ता है। मजदूरी में लंबित भुगतान को लेकर बहोरीबंद जनपद के अतिरिक्त कार्यक्रम अधिकारी अभिषेक भार्गव बताते हैं कि प्रक्रिया भोपाल से लंबित है। तकनीकी कारणों के कारणों की वजह से मजदूरों को भुगतान नहीं हो रहा है।

बहोरीबंद विकासखंड में मनरेगा में मजदूरी करने वाले मजदूर भुगतान को लेकर परेशान हैं। इनका कहना है कि यहां मस्टर में 70 से मजदूरों की हाजिरी भरी जाती है, लेकिन भुगतान चार से पांच मजदूरों को होता है। 79 ग्राम पंचायत में अलग-अलग पंचायतों में काम के बाद करीब 4 करोड़ रुपये से ज्यादा भुगतान मजदूरों को शेष है। मटेरियल सप्लायरों का भी भुगतान अटका है।

इस बारे में जिला पंचायत सीइओ जगदीश चंद्र गोमे बताते हैं कि मनरेगा में मजदूरों को भुगतान कई बार समय पर मूल्यांकन नहीं होने के कारण प्रभावित हुआ है। हमारे कई इंजीनियर कोविड-19 संक्रमित हो गए थे। अब स्थितियां सामान्य हो रही है। जहां कहीं भी थोड़ी बहुत त्रुटि है उसे ठीक कर रहे हैं। मजदूरों को भुगतान की ज्यादा समस्या नहीं है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More