चित्रकूट पियरियामाफी में सात दिवसीय कथा शुरू

श्रीमद्भागवत कथा --भागवत भूषण राजेश राजौरिया वैदिक*

196

ब्यूरो भारत भूषण शुक्ला

चित्रकूट विकास खण्ड रामनगर के ग्राम पंचायत पियरियामाफी में ब्रम्हलीन संत बाबा रामेश्वरम गौ सेवा संस्थान वृन्दावन के तत्वावधान में आयोजित संगीतमयी श्रीमद्भागवत कथा में वृंदावन से पधारे कथा व्यास भागवत भूषण राजेश राजौरिया वैदिक द्वारा सनत कुमार ओझा को स्रोता बनाकर सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा सुनाई जा रही है जिसमें तृतीय दिवस की कथा में आज कथाव्यास भागवत भूषण राजेश राजौरिया वैदिक ने कथा के अनुक्रम में श्री मदभागवत महापुराण की पावन कथा का निरूपण करते हुए भक्त ध्रुव के जीवन दर्शन को परिभाषित करते हुए मनोहारी वर्णन किया

कथा व्यास ने आधुनिक युग के अभिभावकों खासकर माताओं बहनों एवं युवा पीढ़ी को केंद्रित करते हुए कहा कि अपने बच्चों को माता सुनीति की तरह अपने बच्चों को ध्रुव की तरह अच्छे संस्कार और उपदेश देते हुए भगवान का भक्त बने ऐसे सँस्कार देने चाहिए क्योंकि माता पिता ही बच्चों के सबसे पहले भाग्य निर्माता होते हैं और जैसा वह चाहेंगे वैसे ही उनके बच्चे बनेंगे इसमें कोई संसय नहीं है

कथा व्यास ने कहा कि श्री मद्भागवत महापुराण सिर्फ सुनने भर की कथा नहीं है वरन सुनी गई कथा मनन करने की भी विषयवस्तु है | पियरिया माफी में चल रही इस कथा के स्रोता सनत कुमार ओझा सपत्नीक श्रीमती चंदनिया देवी के साथ भक्ति भाव से कथा का श्रवण कर रहे हैं |

इस संगीतमयी श्री मद्भागवतकथा में हारमोनियम पर वृन्दावन से पधारे पंकज ब्रजवासी अपने भजनों से भावविभोर कर रहे हैं तो तबले पर गौरव व्रजवासी संगत दे रहे हैं वहीं बैंजो पर राहुल जी एवं पैड पर पुष्पेंद्र तिवारी संगत कर रहे हैं |

इस भक्ति रस की धारा में सहयोगी आचार्य के रूप में नीलेश शास्त्री विनय शास्त्री हैं तो अखिलेश भाई ओझा सहयोगी के रूप में व्यापक स्तर पर जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं वहीं प0उमेश दत्त द्विवेदी पूजन एवं आरती वैदिक पद्धति के अनुसार करा रहे हैं | इस कथा को श्रवण करने के लिए तमाम गाँव के लोग महिलाओं एवं पुरुषों की संख्या में मौजूद रहे |

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More