रिवाल्वर गर्ल प्रियंका मिश्र का इस्तीफा मजूर, भरना होगा डेढ़ लाख का भुगतान

31

सोशल मीडिया पर वर्दी में रिवाल्वर के साथ वीडियो वायरल होने के बाद सुर्खियों में आई लेडी कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा का इस्तीफा मंजूर हो गया है। नौकरी जाने के बाद प्रियंका को अब विभाग को डेढ़ लाख रुपए भी देने होंगे। अब नौकरी न रहने के बाद लेडी कांस्टेबल अपने शौक को आगे बढ़ाने की तैयारी में हैं। प्रियंका का कहना है कि अगर उन्हें मॉडलिंग का ऑफर मिलता है तो वह उसे जरूर सोचेंगी।

रविवार को मंजूर हुआ था इस्तीफा, अब डेढ़ लाख रुपए भी देने होंगे

कानपुर निवासी प्रियंका मिश्रा वर्ष 2020 में पुलिस कांस्टेबल पद पर भर्ती हुई थीं। झांसी में ट्रेनिंग के बाद इसी वर्ष आगरा के एमएम गेट थाने में पहली तैनाती मिली थी। इस दौरान उन्होंने वर्दी में रिवाल्वर के साथ एक वीडियो बनाया था। इसमें वे एक डायलॉग पर लिप्सिंग करती दिखी थीं। 24 अगस्त को यह वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद एसएसपी ने उन्हें लाइन हाजिर कर दिया था। प्रियंका के लाइन हाजिर होने के बाद इंस्टाग्राम पर यूजर ट्रोल कर रहे थे। ट्रोलिंग से परेशान होकर प्रियंका ने 31 अगस्त को एसएसपी मुनिराज को अपना इस्तीफा सौंप दिया था।

इस मामले में एसएसपी ने सीओ सदर को जांच सौंपी थी। जांच के बाद रविवार को एसएसपी ने उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया गया था। कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा ने बताया कि उन्हें इस्तीफे के साथ 1.52 लाख रुपए का भुगतान करने को कहा गया है। यह भुगतान ट्रेनिंग के दौरान हुए खर्च की भरपाई के लिए देना है। उन्हें पहले से इस बारे में बताया नहीं गया था, अब वह डेढ़ लाख रुपए का इंतजाम कर रही हैं। नोटिस में कहा गया है कि महिला आरक्षी की आयु व सेवा अवधि सेवानिवृत्ति की परिधि में नहीं आती है, ऐसे में ऐच्छिक सेवानिवृत्त किया जाना संभव नहीं है।

ये है ऐच्छिक सेवानिवृत्त का नियम

लेडी कांस्टेबल प्रियंका मिश्रा ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्त का अनुरोध किया था, लेकिन नियमानुसार उन्हें स्वैच्छिक सेवानिवृत्त नहीं मिल सकती। ऐच्छिक सेवानिवृत्त पेंशन नियमावली के अनुसार जब सरकारी कर्मचारी की आयु 45 वर्ष या अर्हकारी सेवा 20 वर्ष पूरे करने के बाद तीन माह पहले ऐच्छिक सेवानिवृत्त का प्रार्थना पत्र दे सकता है।

इसके बाद राजपत्रित अधिकारी के माध्यम से ऐच्छिक सेवानिवृत्त प्रकरण में परिवार के सदस्यों सहमति के बाद ही ऐच्छिक सेवानिवृत्त किया जाता है। वहीं, महिला आरक्षी की जन्मतिथि और नियुक्ति के बाद सेवा अवधि सेवा निवृत्त और अनिवार्य सेवानिवृत्त की परिधि में नहीं आती है। इसलिए प्रियंका को ऐच्छिक सेवानिवृत्त नहीं किया गया।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More