उत्तर प्रदेश- उन्नाव की प्रमुख खबरें पढ़ें एक नजर में राष्ट्रीय जजमेंट के साथ

17

1- जनपद उन्नाव,रायबरेली,लखनऊ व थाना मौरावां की संयुक्त कार्यवाही

उन्नाव आबकारी आयुक्त महोदय के आदेशानुसार चलाये जा रहे प्रवर्तन अभियान के क्रम में जिलाधिकारी रवींद्र कुमार व पुलिस अधीक्षक दिनेश त्रिपाठी के निर्देशानुसार आबकारी विभाग जनपद उन्नाव,लखनऊ व रायबरेली के 12 आबकारी निरीक्षक, 38 प्रधान/आबकारी सिपाही व थाना मौरावां पुलिस बल द्वारा 10 वाहनों के साथ जिला आबकारी अधिकारी उन्नाव करुणेन्द्र सिंह के नेतृत्व में संदिग्ध ग्राम असरेन्दा व चित्ताखेड़ा के कई घरों,तालाब के किनारे व सई नदी के किनारे (नाव की मदद से पहुँच कर) दबिश दी गई। दबिश के दौरान 250 लीटर अवैध कच्ची शराब जब्त करते हुए लगभग 6000 Kg महुहा लहन व 8 भट्टी मौके पर नष्ट की गईं। एक महिला को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।

2- उन्नाव में दस साल से सड़क गड्ढा मुक्त नहीं

उन्नाव। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की अनदेखी से मंगतखेड़ा-पुरवा से लिंक मार्ग 16 मील वाया कसुआखेड़ा 10 वर्षों से गड्ढा मुक्त नही हो सका है। जर्जर मार्ग में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए है। 16 मील वाया कसुआखेड़ा मार्ग पुरवा-मंगतखेड़ा फोर लेन से लिंक मार्ग है। 11 किमी मार्ग का डामरीकरण एक दशक पूर्व हुआ था।

Read Top News of Uttar Pradesh- Unnao with National Judgment at a Glance

इस मार्ग से करीब 30 हजार लोगों के अलावा इंटर कॉलेज व प्राथमिक व उच्च माध्यमिक स्कूल के शिक्षक, बच्चे आते-जाते हैं। करीब चार साल से सम्बंधित विभाग से इस मार्ग को गड्ढा मुक्त न कराए जाने से मार्ग पूरी तरह से जर्जर हो चुका है। बारिश के दौरान गड्ढों में जलभराव से हादसे होते रहते हैं। विधायक अनिल सिंह ने कहा, शीघ्र ही निर्माण कराया जाएगा।

3-ओवैसी के बयान से सीडीओ फिर चर्चा में, सांसद ने की निंदा, सोशल मीडिया पर छाया मुद्दा

उन्नाव। आल इंडिया मजलिस-ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (आईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने बाराबंकी में जनसभा के दौरान सनेही घाट मस्जिद गिराने को लेकर उन्नाव के सीडीओ पर फिर निशाना साधा है। इससे जिले में मामला फिर चर्चा में आ गया। वह पहले भी इसी तरह का बयान दे चुके हैं। उन्नाव सांसद साक्षी महाराज ने निंदा करते हुए उनके बयान को सौहार्द बिगाड़ने वाला बताया है।

Read Top News of Uttar Pradesh- Unnao with National Judgment at a Glance

उन्नाव में तैनाती से पहले सीडीओ दिव्यांशु पटेल बाराबंकी में एसडीएम थे। ओवैसी का आरोप है कि गलत तरीके से रामसनेही घाट की मस्जिद गिरवाई थी। बाराबंकी जिले में दिया गया भाषण रविवार को एक बार फिर जिले में सोशल मीडिया पर सुर्खियों में है। इसे लेकर लोग अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं। सांसद साक्षी महाराज ने फिर ओवैसी के बयान की निंदा की है। इससे पहले नौ सितंबर को ओवैसी ने कुछ इसी अंजाद में भाषण दिया था। तब सांसद ने अपर मुख्य सचिव गृह को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की थी।

साथ ही डीएम रवींद्र कुमार को पत्र लिखकर सीडीओ की सुरक्षा बढ़ाने को कहा था। इसके बाद से जिला प्रशासन ने दो गनर दिए हैं।ओवौसी की मांग इससे पहले एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बाराबंकी में कहा कि मैं पीएम मोदी और बीजेपी से सीएए को कृषि कानूनों की तरह निरस्त करने की अपील करता हूं क्योंकि यह संविधान के खिलाफ है। अगर वे एनपीआर, एनआरसी कानून बनाएंगे, तो हम सड़कों पर उतरेंगे और एक और शाहीन बाग यहां आएगा।

4- उन्नाव में घर से लाखों की नगदी व जेवर चोरों ने उड़ाए

उन्नाव। अचलगंज थाना क्षेत्र में आजाद मार्ग स्थित बदरका गांव में चोरों ने घर का ताला तोड़कर जेवर और नगदी समेत लाखों का माल पार कर दिया। देररात शादी समारोह से लौट परिजनों को चोरी की जानकारी हुई तो पुलिस को सूचना दी। रात में ही एएसपी, सीओ, एसओ और डॉग स्क्वायड टीम मौके पर पहुंची। छानबीन की जा रही है। बदरका गांव के रमेश अवस्थी का मकान मुख्य मार्ग पर स्थित आर्यावर्त ग्रामीण बैंक सामने है।

Read Top News of Uttar Pradesh- Unnao with National Judgment at a Glance

रविवार शाम वह अपने दो बेटे व बहुओं के साथ शादी में शामिल होने गेस्ट हाउस गए थे। घर के मुख्य दरवाजे पर ताला लगा था। घर सूचना देख चोर ताला तोड़ घर में घुस गए और अलमारी व बक्सों के ताले तोड़ नगदी, जेवर आदि कीमती सामान पार कर दिया। देररात रमेश परिवार समेत घर लौटे तो ताला टूटा देख उन्हें अनहोनी की आशंका हुई।

घर के अंदर जाकर देखा तो सारा सामान बिखरा पड़ा था। खुले पड़े बक्से व अलमारी से जेवर नगदी गायब थी। रमेश के बेटे मनीष ने बदरका चौकी में फोन से सूचना दी। चौकी इंचार्ज अखिलेश यादव मौके पर पहुंचे और अधिकारियों को सूचित किया। थाना प्रभारी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि शक के आधार पर कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है।

उन्नाव से जिला ब्यूरो मोहम्मद जमाल की खास रिपोर्ट

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More