मैनपुरी : कलयुगी पिता ने मोबाइल के लिए की अपने बेटे की हत्या

30

मैनपुरी जनपद में बुधवार को दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। एक पिता ने अपने बेटे की जान ले ली। दादा की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। घटना किशनी थाना क्षेत्र के गांव अलावलपुर मड़ैया की है। मकुश बाथम पर अपने बेटे की हत्या का आरोप लगा है।

आरोप है कि मुकेश ने अपने नौ वर्षीय बेटे मिथुन की गला दबाकर हत्या कर दी। मुकेश घर में मोबाइल न मिलने से गुस्से में था। दादा का आरोप है कि गला दबाकर मुकेश ने नाती को मार दिया। पुलिस ने दादा की तहरीर पर गैर इरादतन हत्या की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है।

पति की आदत से तंग आकर आठ माह पहले पत्नी बच्चों को लेकर चली गई थी मायके
गांव अलावलपुर मड़ैया में चार साल की बच्ची पलक ने अपने भाई की हत्या का खौफनाक मंजर अपनी आंखों से देखा। पलक ने पुलिस को बताया कि पापा ने भाई का गला दबा दिया। बच्ची की ही चीख पुकार सुनकर परिजन और ग्रामीणों को वारदात की जानकारी हुई।

परिजनों के अनुसार किशनी थाना क्षेत्र के गांव अलावलपुर मड़ैया निवासी मुकेश बाथम शराब पीने के बाद आए दिन पत्नी और बच्चों के साथ मारपीट करता था। इससे तंग आकर आठ माह पूर्व पत्नी विजय कुमारी सभी बच्चों को लेकर मायके बखतपुर (कुसमरा) चली गई थी। कुछ समय बाद ही मुकेश लड़ झगड़कर अपने नौ वर्षीय पुत्र मिथुन और चार वर्षीय पलक को घर ले आया था। वर्तमान में पत्नी चार बच्चों के साथ पंजाब में भाई के पास रह रही थी।

मंगलवार की देर शाम जिस समय शराब के नशे में धुत मुकेश अपने बेटे मिथुन का गला दबा रहा था, उस समय चार साल की मासूम पलक पास ही खड़ी थी। वह यह खौफनाक मंजर देखकर दहशत में आ गई। बच्ची की चीख पुकार सुनकर दूसरे मकान में रह रहे दादा और दादी तथा अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे। इस बीच आरोपी मौके से भाग गया। ग्रामीणों ने बताया कि आरोपी पुत्र की हत्या करने के बाद शव को फंदे पर लटकाना चाहता था, लेकिन ग्रामीणों के आने की वजह से वह कामयाब नहीं हो सका।

पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद मिथुन  के दादा लाखन सिंह ने बताया कि उनका बेटा मजदूरी कर जो भी कमाता उसे शराब में उड़ा देता है। न तो उसे बच्चों की परवरिश की चिंता है, न ही वह परिवार के भरण पोषण की जिम्मेदारी उठाता था। शराब की लत इस कदर हावी थी कि शराब न मिलने पर वह कुछ भी कर सकता था। कुछ समय पहले उसके के साथ भी मारपीट की गई। वहीं अपनी मां को भी गंभीर चोट पहुंचा चुका है।

आरोपी मुकेश के पिता लाखन की आंखों में आंसू थे। वह कह रहे थे कि भगवान ऐसा बेटा किसी को न दे। उन्होंने अपने बेटे को सुधारने के लिए तमाम प्रयास किए, पूजा-पाठ से लेकर जो भी कुछ कर सकते थे किया
मिथुन कक्षा तीन का छात्र था। हत्या की जानकारी मिलते ही मां विजय कुमारी अपने बच्चों के साथ पंजाब से गांव पहुंची। पोस्टमार्टम के बाद जैसे ही शव गांव पहुंचा परिजनों में चीख पुकार मच गई। विजय कुमारी बेटे के शव को देखकर बेसुध हो गई। परिजन ने बताया कि मुकेश के छह बच्चे हैं। मिथुन की बहन नेहा (15), भाई रोहित (13), सुरजीत (8), रागिनी (7), पलक (4) भी रोते रहे।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More