रणजी ट्रॉफी में 23 सालो बाद मध्य प्रदेश फ़ाइनल में पहुँची

38

अलूर: बायें हाथ के स्पिनर कुमार कार्तिकेय के पांच विकेट की मदद से मध्य प्रदेश ने बंगाल को हराकर 23 साल बाद रणजी ट्रॉफी फाइनल में प्रवेश कर लिया. बंगाल को जीत के लिए 350 रन की जरूरत थी लेकिन टीम 175 रन ही बना सकी.

मुंबई इंडियंस के लिए आईपीएल खेलने वाले कार्तिकेय ने 32 ओवर में 67 रन देकर पांच विकेट लिए. उन्होंने मैच में 128 रन देकर आठ विकेट
बंगाल को हार से ज्यादा हार के तरीके पर तकलीफ होगी. टीम ने आसानी से मध्य प्रदेश के सामने घुटने टेक दिए. कार्तिकेय ने उनके बल्लेबाजों को बखूबी भांप लिया और उन्हें खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया. बंगाल के लिए कप्तान अभिमन्यु ईश्वरन ने सर्वाधिक 78 रन बनाए लेकिन वह भी कार्तिकेय के सामने सहज नजर नहीं आए.
मैच को देखने राष्ट्रीय चयनकर्ताओं की तिकड़ी मौजूद थी लेकिन बंगाल के खिलाड़ी उन्हें प्रभावित नहीं कर सके. ईश्वरन टीम को संकट से निकालकर उनका ध्यान खींच सकते थे लेकिन नाकाम रहे. अपने कल के स्कोर चार विकेट पर 96 रन से आगे खेलते हुए बंगाल ने 79 रन और जोड़े. कार्तिकेय की अगुवाई में मध्य प्रदेश के गेंदबाजों ने उन्हें 28.2 ओवर में ढेर कर दिया.
मुंबई रणजी ट्रॉफी के फाइनल में, मध्यप्रदेश से सामनाघरेलू क्रिकेट की दिग्गज टीम मुंबई ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के खिलाफ अपने सेमीफाइनल मैच के अंतिम दिन पहली पारी की बढ़त के आधार पर रणजी ट्रॉफी फाइनल के लिए क्वालीफाई करने की औपचारिकता पूरी की. जस्ट क्रिकेट अकादमी मैदान पर 41 बार की चैंपियन टीम ने इस मुकाबले की पहली गेंद से अपना दबदबा कायम करते हुए उत्तर प्रदेश को कोई मौका नहीं दिया. यह मैच ड्रॉ पर समाप्त हुआ.
मुंबई ने अपनी पहली पारी में 393 रन बनाने के बाद उत्तर प्रदेश की पारी को 180 रनों पर समेट कर बड़ी बढ़त हासिल की. शुक्रवार को जब चौथे दिन खेल समाप्त हुआ था तो मुंबई ने यशस्वी (181)जायसवाल और अरमान जाफर (127) के शतकों के दम पर चार विकेट पर 449 रन बनाए थे.
इस समय मुंबई की कुल बढ़त 662 रनों की हो गई थी, जिससे मुंबई के फाइनल में पहुंचने पर लगभग मुहर लग गई थी. शनिवार को मैदान के गीले होने के कारण लंच के सत्र के बाद खेल शुरू हुआ. और सरफराज खान (नाबाद 59) और शम्स मुलानी (नाबाद 51) ने उत्तर प्रदेश की कमजोर गेंदबाजी का फायदा उठाना जारी रखा.
दोनों बल्लेबाजों के अर्धशतक के पूरा होने के बाद दोनों टीमों के कप्तानों में मैच को ड्रॉ करने पर सहमति जताई. मुंबई ने दूसरी पारी में चार विकेट पर 533 रन बनाए, जिससे उनकी कुल बढ़त 746 रन की हो गई. सरफराज ने 100 गेंद की अपनी नाबाद पारी में एक चौका और तीन छक्के जड़े जबकि मुलानी ने 89 गेंद की नाबाद पारी में छह चौके लगाए.दोनों पारियों में शतक लगाने वाले जायसवाल मैन ऑफ द मैच चुने गए. फाइनल में मुंबई का सामना मध्य प्रदेश से होगा, जो 22 जून से एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला जाएगा.
फाइनल में मुंबई के दो पूर्व खिलाड़ी आमने-सामने होंगे. मुंबई के कोच अमोल मजूमदार और मध्य प्रदेश के कोच चंद्रकांत पंडित दोनों मुंबई के लिए खेल चुके हैं

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More