कर्नाटक: पूर्व मंत्री रमेश जर्किहोली ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ साजिश रचने का लगाया आरोप

21

आर जे न्यूज़-

बेंगलुरु। कर्नाटक के अश्लील सीडी मामले में शनिवार को एक नया मोड़ आ गया। अब इस मामले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार भी फंसते दिखाई दे रहे हैं। सीडी में नजर आ रही महिला के माता-पिता ने शनिवार को शिवकुमार पर अपनी बेटी का इस्तेमाल कर घटिया राजनीति करने का आरोप लगाया। अश्लील सीडी मामले में कथित रूप से शामिल पूर्व मंत्री रमेश जर्किहोली ने भी पहली बार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का खुलकर नाम लेते हुए उन पर साजिश रचने का आरोप लगाया। उन्होंने उनसे राजनीतिक और कानूनी रूप से लड़ने का भी एलान किया।

इस बीच, शिवकुमार ने शनिवार को कहा कि उनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है और वह उस महिला से कभी नहीं मिले जो सीडी में दिखाई दे रही है। दूसरी तरफ, वीडियो में कथित रूप से दिखाई दे रही महिला ने चौथी बार वीडियो संदेश जारी कर स्वयं और परिवार को सुरक्षा देने की मांग की है।इसके कुछ घंटे बाद ही महिला और उसके परिवार के सदस्यों के बीच टेलीफोन पर की गई बातचीत का आडियो वायरल हुआ। इसमें कथित रूप से वह यह कहते हुए सुनाई दे रही है कि वह शिवकुमार के घर उनसे मिलने जा रही है।

आडियो क्लिप सामने आने पर कर्नाटक भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया दी और मांग की कि कांग्रेस शिवकुमार को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए। वीडियो में नजर आने वाली महिला द्वारा की गई शिकायत पर जर्किहोली के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। इस मामले में भाजपा नेता जर्किहोली कथित तौर पर शामिल बताए जाते हैं। जर्किहोली ने कहा कि वह निर्दोष हैं और साजिश के खिलाफ कानूनी लड़ाई के लिए तैयार हैं। जदएस ने कहा कि पूर्व मंत्री रमेश जर्किहोली की संलिप्तता वाला कथित स्कैंडल मोहपाश का मामला साबित हो रहा है।

साथ ही पार्टी ने सच्चाई का पता लगाने के लिए राजनीतिक दबाव में आए बगैर मामले की निष्पक्ष जांच करने की पुलिस से अपील की है। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा नीत पार्टी ने कहा कि इसके कारण कर्नाटक को पूरे देश के सामने शर्मसार होना पड़ा है। पार्टी ने कहा कि जिस प्रकार लगातार आडियो और वीडियो क्लिप जारी किए गए हैं उससे ऐसा लगता है कि इसके पीछे किसी बड़े समूह का हाथ है।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More