मैं राजकुमार हूँ कहकर पुलिसकर्मियों के उपर अंधाधुध फायरिंग, 3 सिपाही घायल

बाप बेटे के बीच 300 रूपए के बिजली बिल को लेकर विवाद में बुलाई गयी थी पुलिस

161

कानपुर: बिकरू कांड जैसा कानपुर से एक और मामला सामने आया है, जिसमें राजकुमार दुबे नाम के शख्श ने यह कहते हुए पुलिस पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी कि ‘वो विकास दुबे था और मैं राजकुमार दुबे हूं’. इस दौरान एक सबइंस्पेक्टर समेत 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए. फायरिंग का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें आरोपी फायरिंग करते दिख रहा है. बताया जा रहा है कि चकेरी थाना क्षेत्र में बीते रविवार को बाप-बेटे का विवाद सुलझाने पुलिस मौके पर पहुंची थी. जैसे ही पुलिस वहां पहुंची बेखौफ आरोपी ने गाली-गलौज करते हुए पुलिस पर फायरिंग कर दी. कैंट थाना पुलिस के मुताबिक तकरीबन 40 राउंड फायरिंग की गई है. घायल पुलिसकर्मियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वहीं मौके पर कई थानों की पुलिस तैनात की गई है.

मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.बता दें कि मामला चकेरी थानाक्षेत्र के श्याम नगर सी-ब्लॉक का है. यहां के निवासी शेयर कारोबारी राजकुमार दुबे का उसके बड़े बेटे सिद्धार्थ और बड़ी बहू भावना के साथ लंबे समय से झगड़ा चल रहा है. बेटा सिद्धार्थ और बहू भावना उसी माकान में रहते हैं.

इससे पहले भी बाप-बेटे का कई बार विवाद हो चुका है. बीते रविवार को विवाद इतना बढ़ गया कि बाप-बेटे ने एक दूसरे पर फायरिंग शुरू कर दी. इस दौरान बेटे की शिकायत पर पुलिस मौके पर पहुंची.कैंट थाने के पुलिसकर्मियों के मुताबिक जैसे ही पुलिस की गाड़ी वहां पहुंची, घर की छत पर मौजूद राजकुमार दुबे ने अपनी लाइसेंसी डबल बैरक बंदूक से पुलिस पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी. करीब 40 राउंड की फायरिंग में एक सबइंस्पेक्टर समेत 3 पुलिसकर्मी घायल हो गए, जिन्हें आनन-फानन अस्पताल में भर्ती कराया गया.

वहीं फायरिंग के दौरान आरोपी राजकुमार दुबे को गाली-गलौज के साथ ही यह कहते देखा गया कि वो विकास दुबे था, मैं राजकुमार दुबे हूं. कहा यह भी जा रहा है कि राजकुमार दुबे की पत्नी उसे कारतूस दे रही थी, जिससे वह लगातार फायरिंग कर रहा था. इस दौरान वहां मौजूद किसी स्थानीय ने फायरिंग का वीडियो बना लिया. जिसके बाद से वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.इस घटना के बाद पुलिस ने आरोपी राजकुमार दुबे को गिरफ्तार करने के साथ बेटे और बहू को हिरासत में लिया है. पुलिस के मुताबिक 300 रुपये के बिजली बिल को लेकर बाप-बेटे के बीच विवाद शुरू हुआ था, जिसके बाद विवाद बढ़ने पर दोनों के बीच गोलियां चल गईं. इस घटना से पूरे मोहल्ले में दहशत फैल गई है. वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि इससे एक साल पहले भी फायरिंग नाली के विवाद को लेकर बाप-बेटे में जमकर फायरिंग हुई थी.

आरोपी अक्सर लोगों से कहता था, कि गोलियां चलाना उसका शौक है. पुलिस को भी इसकी बानगी देखने को मिली, जब उसके घर से 50 से अधिक कारतूस पुलिस ने बरामद किए.फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है. इसके साथ ही पुलिस ने आरोपी राजकुमार दुबे और उसकी पत्नी के खिलाफ पुलिस पर आपराधिक बल का प्रयोग, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाना, लोकसेवक को ड्यूटी करते समय डरा-धमकाकर और जानबूझकर गंभीर चोट पहुंचाना समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आरोपी राजकुमार को जेल भेज दिया है. एसीपी कैंट मृगांक शेखर पाठक ने बताया कि शेयर कारोबारी राजकुमार दुबे ने जिस डबल बैरल बंदूक से पुलिस पर फायर किए, उसके लाइसेंस निरस्तीकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

इसके अलावा जानकारी मिली है कि घर पर एक लाइसेंसी रिवॉल्वर भी है. उसकी तलाश की जा रही है. रिवाल्वर का लाइसेंस भी निरस्त कराया जाएगा.पुलिस की पूछताछ में यह बात सामने आई है कि शेयर कारोबारी राजकुमार दुबे बेटे सिद्धार्थ की शादी के बाद से ही बहू भावना से बेहद नाराज रहता था. कारण यह था कि भावना अक्सर किसी भी बात पर पुलिस बुला लेती थी.

घर के खर्चों को लेकर बाप राजकुमार और बेटे सिद्धार्थ के बीच अक्सर कहासुनी हो जाती थी. सिद्धार्थ चंडीगढ़ स्थित एक निजी कंपनी में नौकरी करता है और बीते कुछ माह से वर्क फ्रॉम होम के चलते घर से ही काम कर रहा है. राजकुमार दुबे का छोटा बेटा राहुल अपनी पत्नी के साथ घर के पीछे एक अपार्टमेंट में रहता है और वह ट्यूशन पढ़ाकर अपना खर्च चलाता है. राजकुमार की एक बेटी चांदनी भी है, जो दिव्यांग है

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More