जनपद (महोबा) के उप कारागार में निरुद्ध बंदी की बिगड़ी तबियत

83

जनपद महोबा के उपकारागार में निरुद्ध बन्दी की बिगड़ी तबीयत तो इलाज के लिए लाया गया जिला अस्पताल डॉक्टर ने खून की कमी व पीलिया बताया है बन्दी को आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया बंदी का नाम अमित पुत्र बद्रीप्रसाद है थाना चरखारी क्षेत्र का रहने वाला है धारा 354 छेड़छाड़ के मामले में बन्द है जिला कारागार में अमित 4 माह से जैल में बन्द है डॉक्टर ने खून की कमी बताई है अभी जांचों का आना बाकी है जब तक अमित जेल पुलिस अभिरक्षा में जिला अस्पताल में रहेगा

जेल प्रशासन खाने पीने का नही करती कोई पुख्ता इंतजा

पतली रोटी 10 मिलती है और दाल सब्जी पानी – पानी की तरह मिलती है उसमें तैल , नमक , धनिया हल्दी , मिर्च , गरम मसाला , इत्यादि कुछ नहीं मिलता है जेल का खाना खाने से उल्टी होती है

नास्ते में दलिया पानी डला मिलता है

जेल में 2 नम्बर बेरिक में जाते ही झाड़ू लगानी पड़ती है और सुबह आटा गूथने के लिए बोला जाता है काम नही किया तो लम्बरदार मारते है काम नही करना है तो कमान कटवा लो 2500 रुपये देना पड़ेगा अधिकतर 2500 रुपए लगते है कोई बड़ा व्यक्ति आता है जेल में तो उससे तीस हजार रुपये लिए जाते है 2 नम्बर बेरिक से ट्रांसफर होता है तो 100 रुपए सिपाही लेता है और 150 रुपये वेरिक का राइटर लेता इसके बाद पानी भरने के पैसे व झाड़ू लगाने के भी पैसे देने पड़ते है

केंटीन में 30 रुपये से लेकर 150 रुपये तक कि सब्जी मिलती है और अलग से रोटी लेना हो तो 10 रुपये की एक रोटी मिलती है बिस्किट का पैकेट 5 वाला 10 में मिलता है

बीड़ी सिगरेट व गुटखा तम्बाकू 20 वाला राजश्री गुटखा 40 में मिलता है नसे से संबंधित उत्पादों का शुल्क डबल लगता है

शिकायत करने वाले व्यक्ति के साथ मारपीट की जाती है

जेलर का कहना होता है कि डीएम एसपी जज साहब सभी को पता रहता है कि जेल में क्या चलता है वो कुछ नही कहते न कुछ करते है

राजीव तिवारी
जनपद – महोबा – सम्वाददाता
राष्ट्रीय जजमेंट हिन्दी दैनिक समाचार पत्र
ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें
Mob – 7380379599
WhatsApp – 7380379599

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More