अमरोहा-हरा चारा खाने से पशुओं की मौत, गौशाला के कर्मचारी लिए हिरासत में

63

अमरोहा के सांथलपुर की गोशाला में गोवंश पशुओं की मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। उपचार के दौरान छह और पशुओं की मौत हो गई है। अब मृत गोवंश की संख्या 61 हो गई है। वहीं पुलिस ने सात लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। जबकि तीन लोगों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। पांच टीमों का गठन किया गया है। शुक्रवार सुबह एडीजी, डीआईजी समेत आला अफसरों का जमावड़ा लग गया है। पशुधन मंत्री भी मौके पर पहुंचे हैं।

सांथलपुर की गोशाला में गोवंशीय पशुओं के मरने का सिलसिला बृहस्पतिवार की दोपहर से शुरू हुआ। ग्रामीणों के मुताबिक इस गोशाला में 188 गोवंश थे। सुबह उन्हें रोजाना की तरह एक किसान के खेत से आया हरा चारा बाजरा खाने के लिए दिया गया।

चारा खाने के बाद से पशुओं के मुंह से झाग निकलने लगा। दोपहर में एक गोवंश की मौत हो गई और इसके बाद पशुओं के मरने का सिलसिला शुरू हो गया।कुछ घंटों के भीतर 55 गोवंश दम तोड़ गए। सौ से ज्यादा गंभीर हालत में थे। इस जानकारी पर डीएम बीके त्रिपाठी ने आला अफसरों के साथ गोशाला का रुख किया। प्राथमिक जांच के बाद उन्होंने 55 गोवंशों की मौत की बात स्वीकार की थी।

उन्होंने कहा यह गोशाला ग्राम प्रधान रामौतार सिंह और ग्राम पंचायत अधिकारी वीडीओ मोहम्मद अनस की देखरेख में संचालित होती है। इस दौरान लापरवाही बरतने के आरोप में डीएम ने वीडीओ को निलंबित कर दिया। चारे की सप्लाई देने वाले किसान ताहिर और उसके साथियों पर रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही पशुधन मंत्री को मौके पर पहुंचने के लिए कहा था। रात भर जनपद के आला अधिकारी गायों के शवों का पोस्टमार्टम कराने के बाद गड्ढे में दबवाते रहे। लेकिन शुक्रवार की सुबह तक इलाज के दौरान और छह गोवंश पशुओं की मौत हो गई। एडीएम भगवान सरन ने इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि अब तक गोशाला में मरने वाले पशुओं की संख्या 61 हो गई है।

वहीं, एसपी आदित्य लांग्हे ने बताया कि मामले में सात लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जबकि तीन अन्य लोगों की गिरफ्तारी के लिए टीमें दबिश दे रही हैं। मामले में जो भी दोषी होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। ।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More