राष्ट्र के नेतृत्व की बागडोर काबिल हाथों में हो तो संघर्ष सफलता में बदलता है लेकिन जिन्होंने 70 साल देश को लूटा उनके लिए यह बातें मायने नहीं रखती। यह बात केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कही।
केन्द्र सरकार के दूसरे कार्यकाल के प्रथम वर्ष की उपलब्धियों को लेकर जनसंवाद रैली को संबोधित करते हुए ईरानी ने कहा कि बुंदेलखंड में एक बेटी ने राष्ट्र को प्रोत्साहित करने के लिए बलिदान दिया। एक मां ऐसी थी जिसने अपने बेटे को पीठ पर बांधकर तलवार निकालकर अंग्रेजों को ललकारा था ताकि देश स्वतंत्र हो सके मगर दुभार्ग्य है कि रायबरेली की एक सांसद ऐसी हैं जो राजीव गांधी फाउंडेशन के माध्यम से अपने बच्चों के लिए देश को लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं। कोई हिंदुस्तानी कल्पना कर सकता था कि वे चीन के साथ समझौता करेंगे, जिससे उस तिजोरी में पैसा आए जिसकी चाबी सोनिया गांधी के हाथ में है।
उन्होंने आगे कहा कि आज बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय की जयन्ती तथा सैम मानिक शॉ की पुण्यतिथि है, वह क्या सोच रहे होंगे कि कांग्रेस की अध्यक्ष ने चीन से हाथ मिला लिया, जिससे भारत की पीठ पर खंजर भोंक सकें। सोनिया गांधी को इतना क्या बैर है हिंदुस्तान से, कि दुश्मन से हाथ मिलाया, चोरों से पैसा लिया, पीएम को रिमोट कंट्रोल बनाया और प्रधानमंत्री राहत कोष से भी पैसा उठा लिया। राष्ट्र की आस्था होती है इस कोष में।
स्मृति ईरानी ने कहा कि अमेठी में सम्राट साइकिल में गरीबों का क्या हश्र किया गया था। यूपीएसआईडीसी से जमीन लेकर राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट को दी जाती है। आज पता चला कि इस प्रकार का लेनदेन करना इस खानदान की फितरत बन चुकी है। अब मोदी-योगी राज में ऐसे गोरखधंधों की दाल नहीं गलेगी। याद है कि राममंदिर निमार्ण की बात होती तो भाजपा के कार्यकतार्ओं का उपहास किया जाता था। देश के सवोर्च्च न्यायालय का आभार जिन्होंने राष्ट्र व संविधान हित में न्याय किया।                                                                                                                                                                                                                  उन्होंने कहा कि जब कोरोना से पूरा विश्व जूझ रहा है, ऐसे में यूपी की जनता को आश्वस्त करना चाहती हूं कि भाजपा का कार्यकर्ता हर पल आपके साथ इस संघर्ष में खड़ा रहेगा। आपकी हर स्वास्थ्य संबंधी जरूरत को केंद्र-प्रदेश सरकार पूरा करेगी। यह क्षण उनके भी अभिनंदन का है, जिन्होंने कभी डाक्टर, नर्स, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकतार् के रूप में 100 से अधिक दिनों से अहर्निश सेवा दी है। मैं उन कोरोना योद्धाओं को नमन करती हूं। जब दुनिया एक महामारी से जूझ रही है तब कुछ तत्व भारत की ओर आंख उठाने का दुष्साहस कर रहे हैं। भारत को जब भी ललकारा गया है भारत ने विजय प्राप्त की है। देश के प्रधान सेवक के साथ हर संघर्ष में जनमानस एकजुट हैं, इसलिए ऐसे तत्व गलतफहमी न पालें
ईरानी ने कहा कि जनधन योजना पर कुछ लोग उपहास उड़ा रहे थे। देश ने वह मंजर देखा था जब कांग्रेस के एक नेता ने कहा था कि दिल्ली से 1 रुपये चलता है तो 10 पैसा नीचे गरीब तक पहुंचता है। यानि कांग्रेस के नेता ने स्वीकार किया कि 90 पैसे कांग्रेस के दलाल खा जाते हैं। माननीय नरेन्द्र मोदी जी ने वह दलाली बंद कर दी। कांग्रेस के शासन में गरीबों के मुंह पर बैंक के किवाड़ बदं कर दिये जाते थे। अब मोदी ने बैंकों के बंद किवाड़ जनता के लिए खोल दिए। आज देश के 20 करोड़ बहनों के खाते में सीधे पैसा मोदी सरकार ने पहुंचाया। जिन लोगों ने 70 साल से अमेठी रायबरेली में एक शौचालय तक नहीं बनवाया उन्हें आज तिलमिलाहट है।
प्रधानमंत्री के आह्वान पर 11 करोड़ शौचालय बने। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी में इसे इज्जतघर का नाम दिया। इस भावना को वही समझ सकता है जिसने गरीबी को जिया हो। मोदी ने कहा कि अमीरों के ही घर में उजाला क्यों हो। आज यूपी में 2.6० करोड़ एलईडी बल्ब का वितरण किया गया। विधानसभा चुनाव में जन जन के बीच एक प्रश्न था कि नौकरी कितना मिलेगी। घर कितना बनेगा। तीन साल में 30 लाख मकान बनाकर यूपी सरकार ने भविष्य की चाबी थमाई। ये वो नहीं समझेंगे जिन्होंने लूटकर अपने बंगले बनाए।
उन्होने कहा कि कुछ कांग्रेस के नेता हैं जो घर से वीडियो कॉल के माध्यम से किसी व्यक्ति से चर्चा करते हैं, लेकिन जनता से बात करने का प्रयास नहीं करते क्योंकि वे जानते हैं कि जनता उनका साथ छोड़ चुकी है। उन्होने कहा कि जब धारा 370 हटाने का संकल्प साकार हो रहा था तो विरोध का स्वर कांग्रेस की ओर से आ रहा था। गरीब कल्याण योजना के जरिए आत्मनिर्भर भारत के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार प्रयास कर रही है। कल ही उत्तर प्रदेश में गांव के गरीबों को रोजगार मिले इसके लिए पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान का शुभारम्भ किया।                                                                                                                                                                                                                                                                                          R J दीपक वर्मा✍️

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.