Aunt could not save the 'smile' trapped in the swamp, both of them trapped
गुरदासपुर के गांव झौर के ईंट भट्ठे पर दलदल में गिरी एक बच्ची को बचाने आई बच्ची की चाची की मौत हो गई। थाना सदर के गांव झौर निवासी राकेश मसीह और राजन मसीह का परिवार गांव के ही जेएस ईंट-भट्ठे पर कार्य करता है। बुधवार को दोपहर मुस्कान (6) पुत्री राकेश मसीह शौच के लिए गई थी। ईंट बनाने के लिए खोदे गए गड्ढे में पैर फिसलने से वह गिर गई।
पानी भरा होने के कारण जब वह एक घंटे तक नहीं लौटी तो उसे ढूंढते हुए ईंट भट्ठे पर ही कार्य करने वाली उसकी चाची पल्लवी (25) पत्नी राजन मसीह वहां गई तो देखा कि वह पानी में फंसी थी। बच्ची को देख वह भी वहां पहुंची और उसका भी पैर फिसल गया और गड्ढे में जा गिरी। काफी देर तक मदद न मिलने के कारण दलदल में फंसकर दोनों की मौत हो गई।
सदर थाने के एसएचओ जतिंदर पाल ने बताया कि उन्होंने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को सिविल अस्पताल भेज दिया है। परिजनों के बयान के बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उधर मृतक बच्ची मुस्कान के पिता राकेश मसीह और पल्लवी के पति राजन मसीह ने बताया कि वह गांव में अपनी दुकान पर था। भट्ठे से फोन पर उनको घटना की जानकारी मिलने पर गया और दोनों को दलदल से निकालकर सिविल अस्पताल पहुंचाया। जहां पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.