Mamta
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों को कथित तौर राष्ट्र विरोधी बताने के लिए भाजपा नेताओं की आलोचना की
और कहा कि दिल्ली के शाहीन बाग और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर हाल में हुई गोलीबारी शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को आतंकित करने का प्रयास था।
ममता ने कहा कि प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी के खौफ से पश्चिम बंगाल में 30 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।
उन्होंने कहा कि एनपीआर, एनआरसी और सीएए काला जादू जैसे हैं।
क्या आप (भाजपा) मुझे देश से बाहर निकाल देंगे क्योंकि मेरे पास मेरी मां का जन्म प्रमाण-पत्र नहीं है।
हम (तृणमूल) भाजपा की तरह दुशासन वाला दल नहीं हैं।
Also read : सरकार ने सीएए और एनआरसी पर कहा : ‘लागू करने को अभी कोई नहीं लिया है फैसला’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए बनर्जी ने कहा कि
“केवल चुनाव के दौरान खुद को चौकीदार बताने वाले”
प्रधानमंत्री से उलट वह पूरे साल लोगों का ख्याल रखती हैं और उनकी समस्याओं को सुनती हैं।
बनर्जी ने 24 उत्तर परगना के बनगांव में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, मैं उस समूह से ताल्लुक नहीं रखती जो लोगों में नफरत फैलाता है।
उन्होंने कहा, भाजपा नेताओं के उकसाने की वजह से शाहीन बाग
और जामिया मिल्लिया के बाहर गोलीबारी की घटना हुई।
लोगों को आतंकित करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों के प्रति समर्थन जताते हुए टीएमसी सुप्रीमो ने कहा कि
कुछ पार्टियां संशोधित नागरिकता कानून के मुद्दे पर दुष्प्रचार करने की कोशिश कर रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.