shimla
हिमाचल की राजधानी शिमला से सटे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कुफरी जाने वाले सैलानियों के लिए प्रशासन ने नई व्यवस्था लागू की है।
ऐसे में यदि आप भी बर्फ के दीदार के लिए कुफरी घूमने का प्लान बना रहे हैं
तो इस खबर को जरूर पढ़ लें,
ताकि किसी परेशानी का सामना न करना पड़े।
प्रशासन के अनुसार कुफरी जाने वाले सैलानियों को दिन में साढ़े तीन बजे से पहले वापस शिमला लौटना होगा।
शाम के समय छराबड़ा से फागू के बीच नेशनल हाइवे-05 पर
कोहरा जमने से फिसलन बढ़ने से हादसों की आशंका को देखते हुए ये निर्देश जारी किए हैं।
इसके लिए ढली थाना पुलिस के पेट्रोलिंग वाहन में बाकायदा माइक लगा कर अनाउंसमेंट कर
सैलानियों को सूचित किया जा रहा है।
इतना ही नहीं अचानक मौसम खराब होने पर बर्फबारी शुरू होने की स्थिति में भी सैलानियों से शिमला लौटने का आग्रह किया जाएगा।
यह हिदायत उन सैलानियों को है जो ठहरे तो शिमला शहर के होटलों में है और घूमने कुफरी गए हैं।
छराबड़ा, कुफरी और फागू में बार-बार हो रही बर्फबारी के चलते सड़क पर फिसलन बढ़ गई है।
सुबह और शाम के समय ठंड बढ़ने पर बर्फ सड़क में शीशे की तरह जम जाती है।
also read : यूपी : शराब के दाम बढ़ेंगे, 20 प्रतिशत तक बढ़ी दुकानों की लाइसेंस फीस
बाहरी क्षेत्रों से आने वाले सैलानियों को बर्फ पर गाड़ी चलाने का अनुभव नहीं होता
जिसके चलते टूरिस्ट वाहन स्किड होने के बाद यहां वहां फंस जाते हैं और ट्रैफिक जाम हो जाता है।
एनएच-05 समूचे ऊपरी शिमला को राजधानी से जोड़ता है।
इसलिए ट्रैफिक जाम के कारण न सिर्फ सैलानियों को बल्कि आवाजाही करने वाले अन्य लोगों को भी भारी परेशानी झेलनी पड़ती है।
थाना प्रभारी ढली की अगुवाई में थाने के 4 जवान पेट्रोलिंग वाहन में मौजूद रहते हैं।
यह पुलिस टीम न सिर्फ जरूरत पड़ने पर गाड़ियों को धक्का लगा कर निकाल रही है
बल्कि बर्फ में फंसे सैलानियों को बचाने में भी अहम भूमिका निभा रही है।
दोपहर बाद पेट्रोलिंग वाहन ढली से कुफरी और चीनीबंगला सड़क पर आवाजाही शुरू कर देता है।
जाम से निजात की कोशिश: एसपी
एसपी शिमला ओमापति जमवाल ने बताया कि सैलानियों की सुरक्षा और ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात पाने के लिए यह व्यवस्था की है।
शाम के समय सड़क पर कोहरा जमने से फिसलन बढ़ने के कारण गाड़ियों के स्किड होने का खतरा बढ़ जाता है।
एचआरटीसी शिमला के मंडलीय प्रबंधक रघुवीर सिंह ठाकुर ने सभी डिपो को आदेश जारी कर बर्फबारी प्रभावित रूटों पर ऐसे चालक भेजने की हिदायत दी है
जो बर्फ पर गाड़ी चलाने का अनुभव रखते हैं।
इसके अलावा मौके पर सड़क की परिस्थिति को देखने के बाद ही रूट पर गाड़ी चलाने के भी निर्देश दिए हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.