Accident
देहरादून के विकासनगर में लाखामंडल निवासी बूटाराम गौड़ के परिवार पर मंगलवार का दिन कहर बनकर टूटा।
एक ही झटके में उनका भरा-पूरा परिवार तिनके की तरह बिखर गया।Accident
उनके परिवार के पांच सदस्य एक साथ काल के मुंह में समा गए।
जिस समय कार हादसे का शिकार हुई उस समय बूटाराम अपने छोटे भाई विनोद के साथ आगे चल रही एंबुलेंस में सवार थे।
वह विनोद की पत्नी के शव को लेकर परिवार के अन्य सदस्यों साथ गांव जा रहे थे।Accident
एक दिन पूर्व ही विनोद की पत्नी की बीमारी के कारण मौत हो गई थी।
 दिल्ली-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर एंबुलेंस सिलासू बैंड को पार कर आगे निकल गई जबकि कार पीछे छूट गई।
कुछ दूर चलने के बाद जब एंबुलेंस के पीछे चल रही कार नजर नहीं आई तो उन्होंने ड्राइवर से एंबुलेंस को बैक लेने के लिए बोला।Accident
 सिलासू बैंड के पास पहुंचने पर उन्हें वाहन खाई में गिरा दिखा।
उन्होंने खाई में नीचे उतर कर देखा तो परिवार के पांच सदस्यों की मौत हो चुकी थी।
हादसे में गंभीर रूप से घायल बबीता और अंकुश को उपचार के लिए देहरादून जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

Also read : चेतन चौहान : मिलेगा काम सभी होमगार्ड को, कोई नहीं रहेगा बेरोजगार

 एक ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत से पूरे लाखामंडल गांव में मातम पसर गया है।
परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। चुनावी तैयारियों में लगे लोगों ने भी सारी तैयारियां छोड़ दी।
हादसे के बाद से पूरा गांव शोक में डूबा हुआ है।Accident हादसे के बाद कई घरों में चूल्हा तक नहीं जला।
 पोस्टमार्टम के बाद शाम जब शवों को गांव में लाया गया तो पूरा गांव आंसुओं में डूब गया।
शाम को सभी शवों का एक साथ सेरा लाखामंडल स्थित श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया।Accident
हादसे का शिकार हुई दर्शनी देहरादून स्थित एक प्राथमिक स्कूल में शिक्षिका थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.