Haradwani's Rajpura and Prempur Containment Zone's residents have a huge anger over the administration's neglect
हल्द्वानी (नैनीताल)। महानगर हल्द्वानी में बने कंटेनमेंट जोनों के वाशिंदों को आवश्यक वस्तुएं तक उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। जिसके चलते इन क्षेत्रों के लोगों में प्रशासन के प्रति आक्रोश व्याप्त है। बुधवार को प्रेमपुर व राजपुरा के वाशिंदों ने अपना रोष जताया। उन्होंने प्रशासन पर अनदेखी का आरोप लगाया है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच प्रशासन संबंधित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन बना रहा है।
नगर के अलग-अलग क्षेत्रों में दर्जन भर से अधिक कंटेनमेंट जोन बने हुए हैं। इन क्षेत्रों के लोगों का आरोप है कि प्रशासन उनकी अनदेखी कर रहा है। इसे लेकर बुधवार को प्रेमपुर व राजपुरा के लोगों ने प्रशासन के प्रति अपना आक्रोश जताया। प्रेमपुर के निवासियों का कहना है कि कंटेनमेंट जोन तो बना दिया गया, लेकिन इसके बाद क्षेत्र की सुध नहीं ली जा रही है। अब तक कंटेनमेंट जोन में एक भी प्रशासनिक अधिकारी नहीं पहुंचा है।
उनका कहना था कि क्षेत्र का ट्यूबवैल फूंका हुआ है, जिसके चलते पेयजल की पूर्ति ठप पड़ी हुई है। इतना ही नहीं क्षेत्र के लोग फल-सब्जी, दूध आदि आवश्यक वस्तुओं के लिए मोहताज हो गए हैं। यहां अधिकांश लोग सिडकुल की फैक्ट्रियों में काम करते हैं, लेकिन किसी को भी बाहर निकलने की इजाजत नहीं है। यहां तक कि कंटेनमेंट जोनों में प्रशासन द्वारा अभी तक कोरोना की जांच तक नहीं कराई गई है।
वहीं राजपुरा के कंटेनमेंट जोन में रहने वाले लोगों ने प्रशासन के खिलाफ आक्रोश जताते हुए कहा कि क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति नहीं की जा रही है। ऐसे में यदि वह जरूरी सामान खरीदने बाहर निकलते हैं तो उन पर कार्यवाही की जा रही है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रशासन कंटेनमेंट जोन तो बना रहा है, लेकिन क्षेत्र के लोगों के लिए कोई भी सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जा रही है।
वहीं इस संबंध में सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह का कहना है कि कंटेनमेंट जोनों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति कराई जा रही है। राजपुरा व प्रेमपुर में बने कंटेनमेंट जोन के लोगों को परेशानी की बात सामने आई है। जल्द ही इन क्षेत्रों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति कराई जाएगी।

 

ऐजाज हुसैन ब्यूरो उत्तराखंड की रिपोर्ट 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.