हल्द्वानी। 21वां कारगिल शौर्य दिवस कोविड-19 लॉकडाउन के चलते सादगी से मनाया गया। नैनीताल रोड स्थित शहीद पार्क में संक्षिप्त कार्यक्रम में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नैनीताल सुनील कुमार मीणा तथा अपर जिलाधिकारी एसएस जंगपांगी तथा जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कैप्टन सेवा निवृत्त आरएस धपोला ने शहीद स्तम्भ पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्वांजलि दी। सशस्त्र पुलिस जवानों ने शहीद सैनिकों के सम्मान मे सलामी दी तथा मातमी धुन बजाई। कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों ने दो मिनट का मौन रख कारगिल शहीद जवानों को श्रद्वांजलि दी।
इस दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार मीणा ने कहा कि कारगिल युद्व में उत्तरा
खण्ड के 75 जवान शहीद हुये थे, जिसमें से जनपद नैनीताल के पांच वीर जवानों ने कारगिल युद्व में अपने प्राणों की आहुति देकर देश का मान बढ़ाया। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना पूरी तत्परता और सजगता के साथ देश की सीमाओं पर सजग है।
अपने सम्बोधन में अपर जिलाधिकारी (वित्त राजस्व) एसएस जंगपांगी ने कहा कि उत्तराखंड वीरों की धरती है, लगभग प्रत्येेक परिवार से एक व्यक्ति सेना में है। कुमाऊं एवं गढ़वाल रेजीमेंट के वीर सेनानी हमारे गौरव हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के बलिदान एवं उनकी सेवाओं को कभी भुलाया नहीं जा सकता।
श्रद्धांजलि कार्यक्रम में जिला सैनिक कल्याण अधिकारी आरएस धपोला ने कहा कि कारगिल विजय दिवस-शौर्य दिवस कारगिल युद्व के सभी नायकों, वीर शहीदों तथा देश की सीमा की सुरक्षा के लिए सदैव तत्पर रहने वाले भारतीय सेना के सैनिकों के प्रति श्रद्वा, आभार एवं सम्मान की अभिव्यक्ति का विशेष दिन है।
कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक अमित श्रीवास्तव, उपजिलाधिकारी विवेक रॉय, से.नि. कर्नल बीडी काण्डपाल, पुलिस क्षेत्राधिकारी शान्तनु पराशर, उपनिदेशक सूचना योेगेश मिश्रा ने शहीद स्तम्भ पर पुष्पांजलि अर्पित की। श्रद्वांजलि समारोह में बिमला चंद, दीप चन्द्र पाण्डे, ताराचन्द्र जोशी, एसएस रौतेला, नरेन्द्र सिंह बोरा, कैलाश चन्द्र, शंकर सिंह, जगत सिंह बोरा, हरीश कुमार, हुकुम सिंह कुंवर आदि मौजूद थे। कार्यक्रम स्थल पर सामाजिक दूरी तथा मास्क का अनुपालन किया गया तथा सभी को सेनेटाइज भी किया गया।
ऐजाज हुसैन ब्यूरो उत्तराखंड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.