गोरखपुर के रामगढ़ ताल में उतारेंगे सी प्लेन : मुख्यमंत्री

गोरखपुर महोत्सव के समापन समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की घोषणा

26

गोरखपुर,13 जनवरी। गोरखपुर में रोड और एयर कनेक्टिविटी की मजबूत हो रही सुविधाओं के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को गोरखपुर महोत्सव के मंच से एक बड़ी घोषणा की। सीएम योगी ने गोरखपुर के रामगढ़ ताल में सी प्लेन उतारने का ऐलान करते हुए कहा कि जल्द ही इस संबंध में प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इस प्लेन की विशेषता यह होगी कि यह एयरपोर्ट के साथ ही पानी में भी उतर सकेगा।

बुधवार को दो दिवसीय गोरखपुर महोत्सव 2021 के समापन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कि गोरखपुर से आज देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए 9 फ्लाइट हैं, कुशीनगर से जल्द ही अंतरराष्ट्रीय उड़ान शुरू हो जाएगी। आने वाले दिनों में यदि किसी को आवश्यकता पड़ेगी तो वह सर्किट हाउस के पास से सी प्लेन पकड़ कर देश के किसी भी कोने में पहुंच जाएगा। इस अवसर पर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर को विकास की आवश्यकता बताते हुए सीएम योगी ने कहा कि इसका लाभ लोगों को मिलना ही चाहिए।

कोरोना वैक्सीन के लिए करें अपनी बारी का इंतज़ार : सीएम योगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि कोरोना से लड़ने और बचने के लिए जिस संयम, मर्यादा और अनुशासन का पालन किया गया उसी तरह का धैर्य रखते हुए कोरोना वैक्सीन के लिए अपनी बारी का इंतजार करें। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति के बाद 16 जनवरी से कोरोना पर अंतिम प्रहार के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व व मार्गदर्शन में कोरोना वैक्सीनेशन का महाभियान प्रारंभ हो रहा है। सभी के लिए इसकी सुविधा होगी लेकिन वैक्सीन के लिए उतावलापन न दिखाएं, भीड़ न लगाएं बल्कि संयम के साथ अपनी बारी की प्रतीक्षा करें।

आत्मनिर्भर भारत और वोकल फ़ॉर लोकल का आधार है ओडीओपी:मुख्यमंत्री

गोरखपुर महोत्सव के मंच से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर ओडीओपी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत और वोकल फ़ॉर लोकल की परिकल्पना को साकार करने का आधार बताया। उन्होंने बताया कि यूपी की स्थापना का नोटिफिकेशन 24 जनवरी1950 को हुआ था लेकिन पहली बार यूपी दिवस उनकी सरकार ने 2018 से मनाना शुरू किया। पहले ही वर्ष के समारोह में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना शुरू की गई और हर जिले में इसका व्यापक प्रभाव देखने को मिला। अब यह सर्वाधिक लोकप्रिय योजना है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूनियन बजट में भी इसे स्थान दिया है। दिवाली के दौरान टेराकोटा के एक शिल्पकार से हुई बातचीत का अनुभव साझा करते हुए सीएम योगी ने बताया कि लखनऊ के शिल्प मेले में उस कारीगर ने महज तीन दिन में 8 लाख रुपए के टेराकोटा शिल्प उत्पाद की बिक्री की थी। उन्होंने कहा कि ओडीओपी में शामिल टेराकोटा ने दीपावली पर दिए व मूर्तियों के बाजार से चीन का वर्चस्व समाप्त कर दिया।

गोरखपुर में रेडीमेड गारमेंट का हब बनने की क्षमता:सीएम

सीएम ने कहा कि गोरखपुर में रेडीमेड गारमेंट का हब बनने की पूरी क्षमता है। इसके लिए प्रदेश सरकार पूरी कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि खाद व अन्य लोकल प्रोडक्ट स्वदेशी के जरिये आत्मनिर्भरता का माध्यम बनने में सक्षम हैं। मुख्यमंत्री ने गोरखपुर के चिड़ियाघर को प्रदेश का सबसे खूबसूरत चिड़ियाघर बनाने के साथ ही तारामंडल क्षेत्र में इसी वर्ष एक विशाल आडिटोरियम का सौगात देने की भी घोषणा की।

चौरीचौरा शताब्दी के दौरान वर्ष भर होंगे कार्यक्रम

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वाधीनता आंदोलन को निर्णायक दिशा देने वाली 4 फरवरी 1921 की चौरीचौरा की घटना के शताब्दी वर्ष पर पूरे साल कार्यक्रम होंगे ताकि आजादी दिलाने वाले महापुरुषों के प्रति श्रद्धा निवेदित हो सके। साथ ही इन महापुरुषों के स्मरण को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जाएगा।

इस अवसर पर एमएसएमई मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, पर्यटन राज्य मंत्री डॉ नीलकंठ तिवारी, गोरखपुर के सांसद रविकिशन शुक्ल, बांसगांव के सांसद कमलेश पासवान, राज्यसभा सदस्य जयप्रकाश निषाद, नगर विधायक डॉ राधामोहन दास अग्रवाल, गोरखपुर ग्रामीण के विधायक बिपिन सिंह, कैम्पियरगंज के विधायक फतेह बहादुर सिंह, पिपराइच के विधायक महेंद्र पाल सिंह, चौरीचौरा की विधायक संगीता यादव, खजनी के विधायक संत प्रसाद, सतुआ बाबा आश्रम काशी के महामंडलेश्वर संतोष दास, अपर मुख्य सचिव एमएसएमई व सूचना नवनीत सहगल समेत बड़ी संख्या में अधिकारी व कई जनपदों के लोग मौजूद रहे। गोरखपुर महोत्सव समिति के अध्यक्ष एवं गोरखपुर के मंडलायुक्त जयंत नार्लिकर ने कोविड प्रोटोकॉल के साथ हुए आयोजन की रुपरेखा प्रस्तुत करते हुए मुख्य अतिथि व समस्त आगंतुकों का स्वागत किया। आभार ज्ञापन जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन ने किया।

मुख्यमंत्री ने किया राज्य के सबसे ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज का लोकार्पण

समारोह के दौरान ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामगढ ताल के तट पर प्रदेश के सबसे ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज का वर्चुअल लोकार्पण किया। इसकी ऊंचाई 246 फीट (75 मीटर) है और ऊंचाई के लिहाज से यह पूरे देश में 10वां सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज है। इसके साथ ही उन्होंने नया सवेरा के प्रवेश द्वार व पैडलेगंज के पास स्थित बुद्ध द्वार का वर्चुअल लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने समारोह की स्मारिका का भी विमोचन किया।

दिव्यांगजन को प्रदान की मोटरचालित ट्राइसाइकिल

समारोह के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 9 दिव्यांगजन को मोटरचालित ट्राइसाइकिल प्रदान की। समारोह स्थल पर 100 दिव्यांगजन (महिला व पुरूष) को मोटरचालित ट्राइसाइकिल दी गई।

सीएम योगी के हाथों गोरखपुर रत्न से सम्मानित हुईं 9 विभूतियां

गोरखपुर महोत्सव के मुख्य मंच से सीएम योगी ने 9 विभूतियों को गोरखपुर रत्न से सम्मानित किया। संगीत के क्षेत्र में भजन गायक नंदू मिश्रा, सेवा के क्षेत्र में राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित नागरिक सुरक्षा के चीफ वार्डेन डॉ संजीव गुलाटी, चिकित्सा के क्षेत्र में नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ नरेंद्र मोहन सेठ, विज्ञान के क्षेत्र में गॉड पार्टिकल की खोज करने वाली टीम की सदस्य मीनाक्षी नारायण, कालानमक चावल की पांच प्रजातियों की खोज करने वाले कृषि विज्ञानी डॉ रामचेत चौधरी, खेल के क्षेत्र में हॉकी खिलाड़ी ओलंपियन अली सईद व अर्जुन अवार्डी प्रेम माया, अंतरराष्ट्रीय पहलवान अमरनाथ यादव, उद्यमी ज्योति मस्करा को यह सम्मान प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री ने महोत्सव के आयोजकों को भी सम्मानित किया।

कुशीनगर से भगवंत यादव की रिपोर्ट 

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More