धान और मक्का की खरीद को लेकर बिचौलिए हुए हावी, किसानों को नहीं मिल पा रहा न्यूनतम समर्थन मूल्य-

217

जैथरा। किसानों को धान और मक्का का वाजिब मूल्य नहीं मिल पा रहा है। जैथरा क्रय केंद्र पर मानकों के फेर में फंसे किसान अपनी उपज औने पौने दाम में बेच रहे हैं। खरीद केंद्र पर पसरा सन्नाटा अधिकारियों के दावों की पोल खोल रहा है। इस काम में बिचौलियों की चांदी कट रही है। किसानों की मजबूरी का फायदा बिचौलिए उठा रहे हैं।

धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1868 रू, ग्रेट ए का 1888 रुपये। मक्का का 1850 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित है। बावजूद इसके किसान अपनी उपज को ओपन मार्केट में बेचने को मजबूर है। खरीफ की फसलों का सही मूल्य न मिल पाने, रबी की फसलों को पैदा करने का दबाव किसान की दुश्वारियां बढ़ा रहा है।

क्रय केंद्र जैथरा पर एम आई अरविंद कुमार ने बताया अभी तक 3509 कुंतल धान और 6773 कुंतल मक्का की खरीद हुई है। कृषक दलवीर निवासी केसरपुर ने बताया जैथरा क्रय केंद्र पर खरीद न होने की वजह से 1200-1300 रुपये प्रति कुंतल की दर से धान बेचना पड़ रहा है। एम आई तो फोन ही नहीं उठाते हैं।

यही हाल मक्का का है। क्रय केंद्रों पर अनेक परेशानियां हैं।मसलन सूखा, गीला, कूड़ा, क्वालिटी आदि का बहाना बनाकर किसान को लौटने को मजबूर किया जाता है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अगर अपनी उपज एमएसपी पर बेचना हो तो बिचौलियों को ₹200 प्रति कुंतल का कमीशन देना पड़ता है।

किसान जगदीश निवासी नगला तोड़ी पिछले डेढ़ माह से अपना धान बेचने के लिए जैथरा क्रय केंद्र के चक्कर लगा रहे हैं। 25 कुंटल धान पैदा हुआ जिसके भंडारण की भी व्यवस्था हमारे पास नहीं है। उप जिला अधिकारी अलीगंज को दिए प्रार्थना पत्र में भी जगदीश ने अपने धान को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बिक्री कराने की गुहार लगाई है |

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More