लखनऊ : संदिग्ध परिस्थितियों में फंदे से लटका मिला महिला सिपाही का शव

पीआरवी 112 में थी तैनात

168

मोहनलालगंज। मोहनलालगंज कोतवाली की पीआरवी 112 में थी तैनात। कमरे में पंखे से दुपट्टे के सहारे फंदे पर लटका मिला शव।

उर्मिला के अलावा हॉस्टल में थाने की अन्य दारोगा और महिला पुलिस कर्मी रहती हैं। सबके कमरे अलग-अलग हैं। देर शाम उर्मिला उनके साथ बैडमिंटन भी खेल रही थी। वह काफी देर तक बैडमिंटन खेलती रही।

मोहनलालगंज कोतवाली की पीआरवी (पुलिस रिपोर्टिंग व्हीकल) में तैनात महिला सिपाही उर्मिला वर्मा (24) ने रविवार रात फांसी लगा ली। वह कस्बे के मऊ इलाके में एक हॉस्टल में रहती थीं। हॉस्टल के कमरे में ही पंखे से दुपट्टे के सहारे फंदे पर शव लटका मिला। सूचना पर पहुंचे पुलिस अधिकारी उर्मिला के आत्महत्या के कारणों की पड़ताल कर रहे हैं।इस्पेक्टर मोहनलालगंज ने बताया कि उर्मिला मूल रूप से अयोध्या जिले की रहने वाली थीं। रात 10 बजे से उनकी ड्यूटी थी। वह ड्यूटी पर भी नहीं पहुंची थीं।

इस बीच उनका कोई परिचित हॉस्टल पहुंचा। कमरे का दरवाजा अंदर से बंद होने पर काफी देर तक खटखटाता रहा। कोई उत्तर न मिलने पर उसने पड़ोस में रह रहीं एक महिला दारोगा को बताया। महिला दारोगा ने कमरे के दूसरे दरवाजे से अंदर देखा तो कमरे में पंखे से दुपट्टे के सहारे उर्मिला का शव लटका देख सन्न रह गईं।उन्होंने घटना की जानकारी थाने पर दी। इसके बाद एसीपी प्रवीण मलिक, डीसीपी साउथ रवि कुमार मौके पहुंचे।

फंदे से शव को उतारा गया। उर्मिला के परिवारीजनों को घटना की जानकारी दी। इंस्पेक्टर ने बताया कि मौके से कोई सोसाइडनोट नहीं मिला है। उर्मिला के आत्महत्या करने के कारणों की जानकारी नहीं हो सकी है। मौके से उनका मोबाइल भी नहीं मिला है। मोबाइल की खोजबीन की जा रही है। इसके अलावा कई अन्य बिंदुओं पर पड़ताल की जा रही है। उर्मिला के परिवारीजन के आने पर ही कुछ जानकारी हो सकेगी।

देर रात तक झाड़ियों में हुई मोबाइल की खोजबीन

घटना के बाद से उर्मिला का मोबाइल पुलिस को मौके से नहीं बरामद हुआ। पुलिस का दावा है कि उर्मिला के मोबाइल से उसकी मौत के रहस्य से पर्दा उठेगा। इस कारण देर रात तक पुलिस उर्मिला के कमरे समेत घर के आस पास और कुछ दूर स्थित झाड़ियों तक में पुलिस की टीम मोबाइल की खोजबीन करती रही। पर देर रात तक मोबाइल नहीं मिला

देर शाम साथी सिपाहियों के साथ खेलती रही बैडमिंटन

पुलिस ने बताया कि उर्मिला के अलावा हॉस्टल में थाने की अन्य दारोगा और महिला पुलिस कर्मी रहती हैं। सबके कमरे अलग-अलग हैं। देर शाम उर्मिला उनके साथ बैडमिंटन भी खेल रही थी। काफी देर तक बैडमिंटन खेलती रही। उसके बाद वह अपने कमरे में चली गई थी। फिर नहीं निकली।

Comments are closed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More