Unique marriage taken in oath of constitution in an epidemic like Corona in Kushinagar district
कुशीनगर जिले में एक अनोखी शादी हुई। इसमें ना तो फेरे हुए, न ही अन्य वैवाहिक रस्में की हुई। बल्कि नवयुगल ने संविधान की शपथ लेकर जीवन भर एक-दूसरे के साथ निभाने का संकल्प लिया।तथागत बुद्ध की धरती कुशीनगर में बहुजन समाज पार्टी के नगर अध्यक्ष अमित कुमार का विवाह हर्षोल्लास के साथ सम्पन हुआ।
परगन मठिया निवासी विश्वनाथ प्रसाद की पुत्री रिंकी गौतम के साथ पडरौना के बलुचहां निवासी वीरेन्द्र कुमार के पुत्र अमित कुमार सोमवार को परिणय सूत्र में बंधे।यह शादी कई मायनों में अनोखी रही। विवाह समारोह के दौरान अग्नि के सात फेरे भी देखने को नहीं मिले। दूल्हा अमित कुमार जब अपनी बारात लेकर वधु के घर पहुंचे तब वहां वरिष्ठ अधिवक्ता दि कमिश्नर कोर्ट्स ऑफ गोरखपुर ओमप्रकाश जी ने नवयुगल को संविधान की शपथ दिलवाई।
इस अवसर पर एडवोकेट विजय गौतम, सुरेश चंद भारती, शाहिद लारी, विजेन्द्र पाल यादव, रामनाथ चौहान, राजू प्रजापति, मुहम्मद सैफ लारी, सलाहुद्दीन हिंदल, अरविंद कुमार, राजेश प्रताप, श्याम अम्बेडकर सहित कई समाजसेवी एवं बुद्धिजीवी लोग इस अनोखे विवाह के साक्षी बने।दूल्हे अमित कुमार ने कहा, ‘संविधान हमें सम्मान और अधिकार दिलाता है, इसलिए शादी में संविधान की प्रस्तावना की शपथ ली।’
अमित कुमार के मित्र मुहम्मद सैफ लारी और सलाहुद्दीन हिन्दल ने वर वधु को उपहार स्वरूप संविधान की प्रस्तावना भेंट की।यह अनोखी शादी अब पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गई है। हालांकि नवव‍िवाहित जोड़े के परिवार वाले इस अनोखी शादी से बेहद खुश दिखे। उन्‍होंने अमित कुमार और रिंकी को आशीर्वाद दिया। उन्होंने कहा कि ये विवाह समाज मे एक नई क्रांति की शुरुआत है।
इस विवाह पद्धति से विवाह में सम्मिलित हुए सभी मेहमान और दोनों पक्ष के परिवार के लोग काफी खुश दिखे।ये एक नई शुरुआत है जिसे इस विवाह में सम्मिलित हुए लोग अपनाने की बात करते दिखे जो एक सुखद अनुभूति रही। यह विवाह पूरे समाज को एक नई दिशा देने के साथ समाज के लिए एक क्रांतिकारी एवं साहसिक कदम के रूप में देखा जा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.