यूपी मे बड़े आतंकी हमले का खतरा, आईबी ने जारी किया अलर्ट

0 10
उत्तर प्रदेश आतंकियों के निशाने पर है। इसे लेकर इंटेलिजेंस ब्यूरो ने अलर्ट जारी कर दिया है। संकेत मिले हैं कि जाकिर मूसा समेत कई आतंकी प्रदेश में पनाह लिए हुए हैं और बड़ी वारदात की फिराक में हैं।
लिहाजा खुफिया एजेंसियां सुरागरशी में जुटी हैं। पश्चिम उप्र के कई जिले संवेदनशील घोषित कर दिए गए हैं। 31 दिसंबर और एक जनवरी को विशेष सतर्कता बरतने का अलर्ट जारी किया गया है। जल्द ही बड़ी सफलता मिलने का दावा भी किया जा रहा है।
आइबी के सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश आतंकियों के निशाने पर है। जिस प्रकार से खुफिया एजेंसियां प्रदेश में ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही हैं और सफलता मिल रही है, उससे साफ जाहिर है कि प्रदेश में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा।
इस क्रम में 31 दिसंबर व एक जनवरी के लिए सभी जिलों के अधिकारियों को सतर्कता बरतने के दिशा-निर्देश दिए गए हैं।
आइएस के यूपी चीफ मुफ्ती सुहैल के सहयोगी के रूप में पकड़े गए इरशाद पर दो बैंकों का 85 हजार रुपये का कर्ज भी है। उसने ऑटो खरीदने और मकान बनाने के लिए यह कर्ज लिया था।
परिजनों ने रविवार को कहा कि वह मेहनतकश इंसान है। साजिश के तहत उसे देशद्रोही बनाया जा रहा है।
बुधवार को एनआइए और एटीएस ने नगर के मुहल्ला मुल्लाना में आइएस के यूपी चीफ मुफ्ती सुहैल को गिरफ्तार कर उसके घर से विस्फोटक बरामद किया था।
साथ ही गांव सैदपुर इम्मा निवासी सगे भाइयों सईद व रईस को भी पकड़ा था। टीम ने चौथी गिरफ्तारी मुहल्ला पचदरा निवासी ऑटो चालक इरशाद के रूप में की थी। इरशाद पर मुफ्ती सुहैल की मदद करने का आरोप है।
रविवार को उसके भाई औरंगजेब ने बताया इरशाद पर दो बैंक का कर्ज है। प्राइवेट बैंक से उसने ऑटो खरीदने के लिए 35 हजार रुपये का तो
यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट जनवरी में अयोध्या समेत कई बड़े मामलों में देगा फैसला
मकान बनवाने के लिए 50 हजार रुपये का लोन लिया था। तर्क दिया कि इरशाद अगर आतंकी गतिविधियों में शामिल होता तो कर्ज लेने की क्या जरूरत थी।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More