पानीपत
पानीपत

पानीपत.

 हरियाणा के पानीपत में अपने बेटे को फंदे पर

लटकाकर पिता के फांसी लगाने का सनसनीखेज

मामला सामने आया है।

घटना के वक्त पिता और पुत्र कमरे में अकेले थे।

पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिवार के हवाले कर दिए हैं।

मूलरूप से कैथल निवासी सतपाल नैन 32 साल से

पानीपत के खन्ना चौक में रह रहते हैं।

उनके साथ 35 वर्षीय बड़ा बेटा मनदीप नैन, उसकी

पत्नी नीति, 12 साल का पोता केशव और 9 साल का

पोता केतन पहली मंजिल पर रहते हैं, जबकि दूसरी

मंजिल पर खुद सतपाल, उनकी पत्नी कमलेश, छोटे बेटे

आनंद और उसकी पत्नी काजल के साथ रहते हैं।

जिद के बाद बड़े पोते को साथ ले गए थे दादा-दादी

शुक्रवार सुबह सतपाल पत्नी के साथ डीग गांव गए थे।

जिद करने पर वे अपने साथ बड़े पोते केशव को भी ले

गए, जबकि छोटा पोता केतन घर पर ही था।

सतपाल का दूसरा बेटा आनंद बिजनेस के सिलसिले में

फरीदाबाद गया था, जबकि बड़े बेटे की पत्नी नीति

मायके गई हुई थी।

घर पर मनदीप, पोता केतन और छोटी बहू काजल थे।

इस बीच ही मनदीप ने पहले केतन को फंदे पर लटकाया

और उसके बाद खुद फांसी लगा ली।

मन में भरा था डर, अकेला भी नहीं सोता था

सतपाल ने बताया कि मनदीप 12 साल से मानसिक रूप

से बीमार था। वह अकेले में डरता था।

रात को अकेला नहीं सोता था। वारदात से पहले सुबह

10 बजे वह अपनी बहन से मिलने गया था।

यहां से आने के बाद उसने वारदात को अंजाम दिया।

दुकान में काम करने वाले कर्मचारियों ने सबसे पहले देखी लाश

सतपाल ने बताया कि घर पर ही लेडीज गारमेंट
मैन्यूफेक्चरिंग का काम है।
 दोपहर 1 से 2 बजे के बीच कर्मचारी लंच पर गए थे।
लौटे तो कमरे में देखा कि मनदीप का शव पंखे पर
लटका था और बच्चे का शव दरवाजे के पीछे
कपड़े टांगने वाले हैंगर पर लटका था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.