दिल्ली के रामलीला मैदान में रविवार को अरविंद केजरीवाल ने तीसरी बार मुख्यमंत्री की शपथ ली।
उनके साथ छह मंत्रियों ने कैबिनेट की शपथ ली।
शपथ के बाद लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि दिल्ली को दिल्ली की जनता, ऑटोवाले, बस कंडक्टर, ड्राइवर, व्यापारी, सफाई कर्मचारी चलाते हैं।
संबोधन के दौरान उन्होंने अपनी राष्ट्रीय महत्वकांक्षा को जाहिर करते हुए कहा कि आज देशभर के कई राज्य दिल्ली के मॉडल को अपना रहे हैं।
जब नेता कहते हैं कि स्वास्थ्य, शिक्षा ठीक नहीं हो सकते तो लोग कहते हैं कि दिल्ली को देखो।
जानें अपने भाषण में उन्होंने क्या-क्या कहा-
प्रधानमंत्री का आशीर्वाद चाहता हूं
शपथग्रहण के बाद लोगों को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद चाहता हूं।
मैं सबके साथ मिलकर काम करना चाहता हूं।
चुनाव के दौरान विरोधियों द्वारा आलोचना का शिकार रहने पर उन्होंने कहा कि मेरे बारे में जो कुछ भी बोला गया मैंने उन्हें माफ कर दिया है।
यह जीत एक-एक भाई, बहन युवा और विद्यार्थी की जीत है। यह हर दिल्ली वाले की जीत है।
सबके लिए करुंगा काम
केजरीवाल ने कहा कि चुनाव खत्म हो गया, आपने जिसको भी वोट दिया उससे फर्क नहीं पड़ता,
अब आप सारे लोग मेरे परिवार का हिस्सा हो।
सबके लिए काम करूंगा।
मैंने पांच साल बिना किसी जाति-धर्म के सभी लोगों के लिए काम किया है।
किसी भी काम के लिए मेरे पास आ जाना।
मैंने हर दल के लिए काम किया है।
दिल्ली वालों ने विकास को तरजीह देकर देश की राजनीति को बदलने का काम किया
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली वालों ने विकास को तरजीह देकर देश की राजनीति को बदलने का काम किया है।
केजरीवाल ने कहा, ‘मैं दिल्ली को आगे बढ़ाने और इसे दुनिया का सबसे अच्छा शहर बनाने के लिए प्रधानमंत्री का भी आशीर्वाद चाहता हूं।’
Also read :  गुजरात: छात्राओं को अंडरगारमेंट्स उतरवाने पर प्रिंसिपल और वार्डन समेत चार पर मामला दर्ज
केजरीवाल ने खुद को दलगत राजनीति से अलग बताते हुए कहा कि मैं आप का भी मुख्यमंत्री हूं
और भाजपा कांग्रेस सहित अन्य दलों के समर्थकों का भी मुख्यमंत्री हूं।
चुनाव में राजनीति होती है और हुई भी
केजरीवाल ने चुनाव के दौरान विभिन्न दलों के नेताओं की कड़वी बातें भुलाने की अपील करते हुए कहा कि मैं सभी के साथ मिल कर काम करना चाहता हूं।
अब चुनाव खत्म हो गए हैं।
चुनाव में राजनीति होती है और हुई भी।
हमारे लिए चुनाव में जिसने जो कुछ भी कहा,
उसके लिए हमने उन्हें माफ कर दिया है।
केंद्र के साथ मिलकर दिल्ली को आगे ले जाना चाहता हूं
केजरीवाल ने केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करने की पहल करते हुए कहा,
‘मैं केंद्र के साथ मिलकर दिल्ली को आगे ले जाना चाहता हूं।
शपथ ग्रहण समारोह का मैंने प्रधानमंत्री को भी न्योता भेजा था,
मगर वह किसी अन्य कार्यक्रम में व्यस्त होने के कारण नहीं आ सके।
मैं दिल्ली को आगे बढ़ाने और इसे दुनिया का सबसे अच्छा शहर बनाने के लिए प्रधानमंत्री का भी आशीर्वाद चाहता हूं।
दिल्ली वालों ने शुरू की नई राजनीति
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली वालों ने एक नई तरह की राजनीति की शुरुआत की है।
दिल्लीवालों ने विकास की राजनीति की शुरुआत की है।
पूरे देश में नई राजनीति का डंका बज चुका है।
स्कूल, चौबीस घंटे बिजली, अच्छी सड़कों, महिलाओं की सुरक्षा,
भ्रष्ट्रचार मुक्त, 21वीं सदी के भारत, मुफ्त बिजली,
स्वास्थ्य की राजनीति को जन्म दिया है।
सबके साथ मिलकर दिल्ली को खूबसूरत बनाना है।
मुफ्त योजना को लेकर विरोधियों पर पलटवार
केजरीवाल ने अपने भाषण के दौरान विरोधियों द्वारा प्रचंड जीत को लेकर किए जा रहे कटाक्ष पर भी पलटवार किया।
केजरीवाल सरकार द्वारा दिल्लीवासियों को दी जा रही मुफ्त बिजली-पानी और महिलाओं के लिए फ्री बस सुविधा को लेकर विरोधी तंज कस रहे हैं।
विरोधियों का कहना है कि केजरीवाल की वापसी इन्हीं मुफ्त की योजनाओं के दाम पर हुई है।
इस पर पलटवार करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दुनिया में जितनी भी अनमोल चीजें हैं
उसे भगवान ने सबको मुफ्त में दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.