मुरादाबाद।  औषधि विभाग और कटघर पुलिस ने बुधवार तडके शहर के दससराय चौकी के पास रिक्शा और स्कूटी से अवैध रूप से ले जाई जा रही नशीले इंजेक्शन की भारी खेप बरामद की है। जिसकी अनुमानित कीमत 20 लाख से अधिक आंकी गई है। इस दौरान टीम ने मौके से तीन ड्रग तस्कर को हिरासत में लिया है। सभी नशीली दवाएं आगरा से रोडवेज बस द्वारा मुरादाबाद लाई जा रही थी।
औषधि विभाग को सूचना मिली थी कि आगरा से एक रोडवेज बस संख्या यूपी 21 एएन 3327 में आगरा से भारी मात्रा में नशीली दवाएं, और सैंपल की दवाएं जा रही है। टीम को बस के मुरादाबाद पहुंचने का समय बुधवार तडके 2 से 4 बजे तक मिला था। उसके बाद टीम ने दस सराए पुलिस चौकी के सामने तडके सुबह 3ः45 बजे बस से एक सवारी को उतरते हुए देखा जो काफी माल ई-रिक्शा और एक स्कूटी में लाद रहा था।
उसे रोक कर जब तलाशी ली गई तो टीम को नशीली दवाई का जखीरा बरामद हुआ। दवाई में नारकोटिक्स भारी मात्रा में बरामद हुआ है जिसमे लौराजपाम, ड्रामाडोल हैड्रोक्लोराइड, हैवी एंटीबायोटिक, फिजिशियन सैंपल सहित कई नशीली दवाएं बरामद हुई।
औषधि निरीक्षक नरेश मोहन दीपक ने बताया कि इसमें तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमे बस का कंडक्टर और ड्राईवर भी शामिल बताये जा रहे है। बस की पहचान की जा चुकी है अन्य की तलाश की जा रही है। पकडे गए तीन लोगों ने शुरूआती पूछताछ में एक बड़े रैकेट के नाम का खुलासा किया है, जिसका मुखिया बब्बू है। बब्बू उत्तराखंड और यूपी का बड़ा सरगना है जो नशीली दवाओं का बड़े स्तर पर कारोबार करता है और उसके गिरोह में सैकड़ों लोग काम करते है।
पकड़े गए ड्रग तस्करों ने अपना नाम वीरेंद्र कुमार पुत्र कुंवर पाल निवासी भोलनाथ कॉलोनी थाना कटघर, रूपकिशोर पुत्र आनंद स्वरूप निवासी उमरी थाना पाकबड़ा और ख्यालीराम पुत्र कुंवर पाल निवासी डबल फाटक दस सराय थाना कटघर बताया है। ड्रग इंस्पेक्टर नरेश मोहन दीपक ने बताया कि इस मामले में रोडवेज के चालक अजय और परिचालक संजीव के खिलाफ भी कटघर थाने में मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है।
इस बड़े रैकेट का खुलासा और लाखों की नशीली दवाई बरामद करने वाली टीम में आयुक्त आरपी पाण्डेय, औषधि निरीक्षक नरेश मोहन दीपक, रामपुर के औषधि निरीक्षक अनुरोध कुमार, अमरोहा के निरीक्षक राजेश कुमार सहित कटघर इंस्पेक्टर अजीत सिंह और टीम शामिल रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.