प्रयागराज. छात्रा के साथ गैंगरेप का आरोप बीजेपी के एक नेता और उनके डॉक्टर साथी पर लगा है. जानकारी के अनुसार, मामला साल भर पुराना है. प्रयागराज पुलिस ने इस मामले में अब जाकर आरोपी बीजेपी नेता और डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है. पुलिस ने पीड़ित छात्रा का मेडिकल करा दिया है. हालांकि, नामजद रिपोर्ट दर्ज होने के बावजूद पुलिस ने अभी तक रसूखदार बीजेपी नेता और आरोपी डॉक्टर को गिरफ्तार नहीं किया है. आरोपी बीजेपी नेता ने खुद को बेगुनाह बताते हुए इसे सियासी साजिश करार दिया है.
पीड़ित छात्रा द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक़, बीजेपी नेता डॉ श्याम प्रकाश द्विवेदी और उनके साथी डॉ अनिल द्विवेदी ने कई बार पिस्टल की नोक पर उनके साथ शारीरिक संबंध बनाए. इस दौरान मुंह खोलने व शिकायत करने पर उन्‍हें और उनके परिवार को जान से मारने की धमकी दी जाती थी. पीड़ित छात्रा के मुताबिक़, श्याम द्विवेदी उन्‍हें अपने होटल में बुलाता था और वहां अपने दोस्त डॉ अनिल द्विवेदी के साथ मिलकर यौन संबंध बनाता था. पीड़ि‍ता की शिकायत के अनुसार, 8 मार्च को दोनों जबरन उनके घर में घुस आए थे और अपनी हवस का शिकार बनाया था. परिवार वालों की जान का खतरा होने के डर की वजह से वह काफी दिनों तक अपना मुंह बंद रखे हुए थीं.
आरोपी बीजेपी नेता डॉ श्याम प्रकाश द्विवेदी की गिनती प्रयागराज के रसूखदार नेताओं में होती है. वर्तमान समय में वह बीजेपी युवा मोर्चा के काशी प्रांत के उपाध्यक्ष हैं. श्‍याम प्रकाश के पिता रामरक्षा द्विवेदी प्रयागराज में बीजेपी के जिलाध्यक्ष रह चुके हैं. श्याम द्विवेदी का अपना होटल है और साथ ही कई दूसरे कारोबार भी हैं. उन्‍होंने सोशल मीडिया पर पीएम और सीएम के साथ ही पार्टी के कई दूसरे कद्दावर नेताओं संग अपनी फोटो लगा रखी है.
श्याम द्विवेदी का साथी डॉ अनिल द्विवेदी शहर के सोहबतियाबाग इलाके में एक प्राइवेट अस्पताल चलाता था. हालांकि, यह अस्पताल इन दिनों बंद रहता है. पीड़ित छात्रा द्वारा दर्ज शिकायत के मुताबिक़, दोनों आरोपी प्रतापगढ़ की एक ज़मीन को बिकवाने के नाम पर उनसे मिलते थे. छात्रा की शिकायत पर बीजेपी नेता और उनके डॉक्टर साथी के खिलाफ कर्नलगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. प्रयागराज के एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह के मुताबिक़ जल्द ही पीड़िता का मजिस्ट्रेटी बयान कराया जाएगा. उनके मुताबिक़ शुरुआती जांच के बाद ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी. दूसरी ओर आरोपी बीजेपी नेता डॉ श्याम द्विवेदी का कहना है कि वह पिछले कई वर्षों से धर्मांतरण रोकने की एक मुहिम में लगे हुए हैं, इसलिए साजिश के तहत उन्‍हें फंसाया जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.