जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले के वघामा इलाके में मंगलवार सुबह सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच शुरू हुई मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया गया है। फिलहाल पूरे इलाके को घेरकर सुरक्षाबलों और पुलिस द्वारा तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।
डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि मुठभेड़ में तीन दिनों पहले बिजबेहरा में एक पांच साल के मासूम और सीआरपीएफ जवान को मारने वाले दो आतंकियों को मार गिराया गया है।
बता दें कि जून में अब तक 48 आतंकी मारे गए हैं। पुलिस और अन्य सुरक्षाबलों के जवानों को आपसी तालमेल के चलते ये ऑपरेशन बिना किसी नुकसान के अंजाम दिए जा रहे हैं। घाटी में इस साल छह ऑपरेशनल कमांडर समेत 118 दहशतगर्दों का सेना सफाया कर चुकी है।
हिजबुल मुजाहिदीन को सबसे तगड़ा झटका लगा है। रियाज नायकू, हम्माद खान, जुनैद सेहरई आदि हिजबुल के कमांडरों का खात्मा किया जा चुका है। त्राल में 26 जून को डिवीजनल कमांडर कासिम उर्फ जुगनू के मारे जाने के बाद इलाके से हिजबुल आतंकियों का सफाया हो गया है।
मालूम हुआ है कि अनंतनाग के ही रूनीपोरा इलाके में सोमवार को सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए थे। मारे गए आतंकियों के पास से एक एके 47 राइफल और 2 पिस्तौल बरामद की गई थी।
बता दें कि सोमवार को इलाके में आतंकियों की मौजूदगी की सूचना पर एसओजी, सेना की 19-आरआर(राष्ट्रीय राइफल्स) और सीआरपीएफ ने तलाशी अभियान शुरू किया था। इस दौरान खुद को घिरा देख आतंकियों ने सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम पर फायरिंग करनी शुरू कर दी थी।
इसके बाद सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला और कई घंटे चली मुठभेड़ में तीन आतंकियों को मार गिराया। बता दें कि दक्षिण कश्मीर में इस महीने 14 मुठभेड़ों में अब तक 36 आतंकियों का सफाया किया गया है।
डीजीपी दिलबाग सिंह ने सोमवार को बताया था कि अनंतनाग में हुई मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकी और हिजबुल कमांडर मसूद मारा गया है। उन्होंने कहा था कि मसूद के मारे जाने के बाद जम्मू संभाग का डोडा जिला पूरी तरह से आतंक मुक्त हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.