राफेल मुद्दे पर प्रदर्शन के दौरान, बीजेपी और कांग्रेस के कार्यकर्ता आपस में भिड़े, फेंकीं समोसे और पानी की बोतलें

0 13
गोवा| बीजेपी और कांग्रेस दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर समोसे और पानी की बोतलें फेंकीं। इस मामले में दोनों दलों के कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे पर अभद्रता करने का आरोप लगाया और पणजी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई।
जानकारी के मुताबिक, राफेल सौदे में कोई गड़बड़ी नहीं मिलने के बाद बीजेपी कार्यकर्ता शुक्रवार को गोवा में कांग्रेस नेतृत्व के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने ‘गांधीगीरी’ दिखाने का फैसला लिया। बताया जा रहा है कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विनय तेंदुलकर ने कथित तौर पर समोसे की थाली और फूल फेंक दिए, जिसके बाद हंगामा होने लगा।
विनय तेंदुलकर ने बताया कि वे अपने कार्यकर्ताओं के साथ विपक्षी पार्टी के कार्यालय पर प्रदर्शन कर रहे थे। उस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उन पर हमला किया और बीजेपी कार्यकर्ताओं पर चीजें फेंकीं। तेंदुलकर ने बताया कि
राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी कार्यकर्ता पूरे देश में कांग्रेस के झूठ का पर्दाफाश कर रहे हैं। वहीं, गोवा कांग्रेस की महिला विंग अध्यक्ष प्रतिमा कूटिन्हो ने बताया कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर उनकी पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं पर शुक्रवार को हमला किया और जमकर हंगामा काटा। कूटिन्हो ने इस मामले में शिकायत भी दर्ज कराई है।

कूटिन्हो ने अपनी शिकायत में लिखा, ‘‘बीजेपी नेता जब पार्टी कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे तो हमने उनका स्वागत किया। साथ ही, उन्हें रिफ्रेशमेंट और फूल दिए।
यह भी पढ़ें: विपक्षी नेता तेजप्रताप यादव को मिला मनचाहा बंगला
हमारे हाव-भाव देखकर बीजेपी अध्यक्ष विनय तेंदुलकर भड़क गए और उन्होंने समोसे की थाली कांग्रेस कार्यकर्ता के मुंह पर फेंक दी। इसके बाद उन्होंने गुलदस्ता भी फेंक दिया।’’
पुलिस ने बीजेपी के अज्ञात कार्यकर्ताओं के खिलाफ धारा 143, 147, 323, 504, 509 और 354 के तहत एफआईआर दर्ज की है। वहीं, बीजेपी की कार्यकर्ता कविता कंडोलकर ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर बोतल, समोसे और लकड़ी के टुकड़े फेंके, जिससे उन्हें उकसाया जा सके।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More