उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना प्रमुख अमित जानी ने नसीरुद्दीन शाह के घर भिजवाया पाकिस्तान का टिकट 

0 14
अमित जानी वही व्यक्ति हैं जिन्होंने लखनऊ और दिल्ली में कुछ पोस्टर लगवा कर योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री बनाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हटाने की मांग की थी। दरअसल देश में डर लगने वाला बयान देने के बाद से ही नसरुद्दीन शाह कई लोगों के निशाने पर हैं। कई राजनीतिक दलों ने भी उनके इस बयान की आलोचना की है।
तो अब मशहूर बॉलीवुड अभिनेता नसीरूद्दीन शाह को पाकिस्तान का टिकट भेजा गया है। यह टिकट उनके घर पर भेजा है उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के प्रमुख अमित जानी ने। अमित जानी ने नसरुद्दीन शाह के लिए 14 अगस्त, 2019 को मुंबई से कराची का टिकट बुक कराया है।
इस टिकट की कीमत 14,187 रुपया है। टिकट भेजने के बाद अमित जानी ने नसीरूद्दीन शाह पर तंज भी कसा है और कहा है कि ‘अगर उन्हें डर लग रहा है तो वह हनुमान चालीसा भी पढ़ सकते हैं…क्योंकि अब तो वैसे भी हनुमान जी को मुसलमान बताया गया है…
अब वह इस्लाम से खारिज नहीं होंगे।’ अमित जानी ने आगे कहा है कि ‘जिसको भी देश में डर लगता है वह पाकिस्तान जा सकते हैं, इसका इंतजाम उनका संगठन करवाएगा।’
एक साक्षात्कार में नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि ‘मुझे फिक्र होती है अपने बच्चों के बारे में सोचकर क्योंकि उनका मजहब ही नहीं है। मजहबी तालिम मुझे मिली थी, रत्ना को थोड़ी कम मिली थी लेकिन मुझे थोड़ी ज्यादा मिली थी लेकिन उसे बिल्कुल भी नहीं।
हमने अपने बच्चों को मजहबी तालिम बिल्कुल नहीं दी क्योंकि मेरा ये मानना है कि अच्छाई और बुराई का मज़हब से कोई लेना-देना नहीं है। फ्रिक्र होती है मुझे अपने बच्चों के बारे में…क्योंकि कल को अगर उनको एक भीड़ ने घेर लिया कि तुम हिंदू हो या मुसलमान?, तो उनके पास कोई जवाब ही नहीं होगा। इस बात की फिक्र होती है क्योंकि हालात जल्दी सुधरते मुझे तो नजर नहीं आ रहे।

इन बातों से मुझे डर नहीं लगता, गुस्सा आता है। मैं चाहता हूं कि हर सही सोच वाले इंसान को गुस्सा आना चाहिए डर नहीं लगना चाहिए। हमारा घर है हमें कौन निकाल सकता है यहां से। ये ज़हर फैल चुका है और दोबारा इस जिन्न को बोतल में बंद करना बहुत मुश्किल होगा।
यह भी पढ़ें: चीनी भी बता रहे बजरंगबली को भगवान: कीर्ति आजाद
खुली छूट मिल गई है कानून को अपने हाथों मे लेने की। कई इलाकों में हम देख रहे हैं कि एक गाय की मौत को ज्यादा अहमियत दी जाती है एक पुलिस अफसर की मौत की बजाए।’

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More