अलर्ट: साधू के वेश में आ सकते हैं अयोध्या में आतंकी

0 3
नई दिल्ली,। 25 नवंबर को संतों की धर्मसभा में बड़ी संख्या में लोगों के जुटने के दौरान अधिक खतरे की बात कही गई है। आशंका है कि आतंकी भीड़भाड़ में साधु की वेशभूषा में भी घुसपैठ कर सकते हैं।
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण मुद्दे को लेकर उमड़े जनसैलाब के बीच आतंकी खतरा भी है। इसे लेकर आइबी के अलर्ट पर यूपी पुलिस ने सतर्कता और बढ़ा दी है।
आतंकी खतरे की वजह से अयोध्या में खासकर आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) के विशेष कमांडो तैनात किए गए हैं। साथ ही, खुफिया तंत्र को और अधिक सक्रिय कर दिया गया है।
आइबी ने करीब एक सप्ताह पहले अलर्ट जारी किया था, जिसके बाद से ही यूपी पुलिस ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी थीं। विशेषकर ट्रेनों से आने वालों पर कड़ी नजर रखी जा रही है।
बताया गया कि 25 नवंबर को अयोध्या में करीब दो लाख लोगों के जुटने का अनुमान है। हालांकि, पुलिस अधिकारियों का दावा एक लाख लोगों के जुटने का है।
वहीं, स्टेट इंटेलीजेंस ने धर्मसभा में यूपी के अलग-अलग क्षेत्रों से जुट रहे लोगों के बारे में विस्तृत जानकारी जुटाई है। किस जिले से कितने लोग आ रहे हैं और उनमें शामिल प्रमुख लोगों के नाम व मोबाइल नंबर तक जुटाए गए हैं और
उन्हें अयोध्या में तैनात पुलिस अफसरों से साझा किया गया है। प्रदेश के बाहर से आने वाले लोगों पर भी खुफिया एजेंसियों की कड़ी नजर है।
आइबी की टीम के अलावा अयोध्या व आसपास के जिलों में खुफिया इकाई की टीमों लगातार संदिग्ध लोगों पर नजर रख रही हैं और होटल व धर्मशालाओं में चेकिंग बढ़ा दी गई है।
अयोध्या में आतंकी साजिश की आशंका को देखते हुए कई संभावित व संदिग्ध आतंकियों की तस्वीरें के जरिये भी खुफिया एजेंसियां निगरानी का काम कर रही हैं।
सर्विलांस यूनिट सोशल मीडिया के जरिये चल रही गतिविधियों पर भी कड़ी नजर रख रही है। एडीजी कानून-व्यवस्था आनन्द कुमार का कहना है कि आइबी के अलर्ट के मद्देनजर पूरी सतर्कता बरती जा रही है।
डीजीपी मुख्यालय ने गोधरा कांड के दृष्टिगत एडीजी रेलवे को पत्र लिखकर ट्रेनों में सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर पूरी मुस्तैदी बरते जाने को कहा है।
अयोध्या से वापस जाने वाली ट्रेनों में यूपी के हर स्टेशन पर चेकिंग बढ़ाने के साथ ही ट्रेन के भीतर भी सुरक्षाकर्मियों को मुस्तैद रखने को कहा गया है। अयोध्या में सुरक्षा के दृष्टिगत चार कंपनी आरएएफ और तैनात की गई है। कुल नौ कंपनी आरएएफ को मुस्तैद किया गया है।
विश्व हिंदू परिषद की धर्मसभा रविवार को बड़ा भक्तमाल की बगिया में सुबह 11 बजे से होगी। धर्मसभा में दो लाख से ज्यादा रामभक्तों के जुटने का अनुमान है।
धर्मसभा में उप्र के 50 से ज्यादा जिलों से रामभक्तों का पहुंचना शुरू हो गया है। करीब पांच सौ बसें रामभक्तों को लाने व पहुंचाने के लिए लगाई गई हैं, जबकि तीन हजार से ज्यादा कार्यकर्ताओं की फौज व्यवस्थाओं के मद्देनजर तैनात की गई है।
मंच पर करीब सौ लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। विहिप की धर्मसभा में जगतगुरु रामानंदाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य, रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, हरिद्वार के जगतगुरु रामानंदाचार्य हंसदेवाचार्य,
महानिर्वाणी अखाड़ा के महंत रविंद्रपुरी, दिगंबर अखाड़ा के महंत सुरेश दास, जगतगुरु रामानुजाचार्य वासुदेवाचार्य, महामंडलेश्वर उड़ीसा के स्वामी ज्ञानानंद गिरी समेत करीब सौ संत व विशिष्टजन शामिल होंगे।
इनके साथ ही आरएसएस के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल समेत संघ व विहिप के कुछ अन्य बड़े नेताओं के शामिल होने की भी संभावना है। शनिवार को भी संघ के क्षेत्र प्रचारक स्तर के कई नेता अयोध्या में डेरा डाले रहे।
पूरे दिन बड़े भक्तमाल की बगिया व कारसेवकपुरम में हलचल बढ़ी रही। विहिप के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय, सांसद लल्लू सिंह समेत अन्य बड़े नेता बड़ा भक्तमाल में डेरा डाले रहे।
वाहन पार्किग के लिए परिक्रमा मार्ग स्थित बड़ा भक्तमाल परिसर की विभिन्न दिशाओं के 13 स्टैंड बनाए गए हैं। सभास्थल से एक किलोमीटर दूर ही वाहन रोक दिए जाएंगे।
यह भी पढ़ें: दाऊद गैंग ने फ़ोन पर, साक्षी महाराज को जान से मारने की दी धमकी
वहीं सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं। विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने बताया कि धर्मसभा ऐतिहासिक होगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More