तृणमूल ने अमित शाह को दी खुली चुनौती

0 10
बंगाल भाजपा प्रमुख दिलीप घोष ने कहा, ‘यह राज्य में चुनावी माहौल को नाटकीय रूप से बदल देगा।’ घोष ने न्यूज चैनल एनडीटीवी से कहा कि ‘अगर मिस्टर नरेंद्र मोदी पुरी से चुनाव लड़ सकते हैं तो अमित शाह कोलकाता से चुना क्यों नहीं लड़ सकते?
याद रखे की मोदी के वाराणसी से खड़े होने के बाद उत्तर प्रदेश में क्या हुआ था।’ हालांकि राज्य की सत्ता पर काबिज टीएमसी ने घोष की इस सोच को ‘पतंगबजी’ कहकर खारिज कर दिया है। पार्टी के सूत्र ने बताया कि ‘भाजपा नेता बंगाल में प्रचार करने की कोशिश कर रहे हैं।
हमारी उन्हें खुली चुनौती है, आएं और राज्य की 42 सीटों में से कहीं भी चुनाव लड़ लें।’ बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर होने के बाद भी बंगाल में भाजपा कुछ खास नहीं कर पाई थी। अभी पार्टी के यहां से महज दो सांसद है, जबकि टीएमसी के 34 सांसद चुनाव जीतकर संसद भवन पहुंचे हैं।
2019 के लोकसभा चुनाव में टीएमसी के मजबूत पकड़ वाले पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी को चुनौती देने के लिर राज्य की भाजपा ईकाई चाहती है कि उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कोलकाता से लोकसभा चुनाव लड़ें।
घोष के मुताबिक इसके बारे में अभी कुछ भी आधिकारिक नहीं है कि अमित शाह से कोलकाता से और नरेंद्र मोदी पुरी से चुनाव लड़ेंगे, मगर पार्टी कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय कार्यकर्ताओं को अपनी इच्छा बताई है जो पिछले दिनों कोलकाता दौरे पर पहुंचे थे। घोष ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि हमारा संदेश अमित शाह तक पहुंच जाएगा।
मुझे यकीन है कि वो इस संबंध में गंभीर रूप से विचार करेंगे। क्योंकि इस बार चुनाव में बंगाल भाजपा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।’ बंगाल भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कुछ दिनों पहले अमित शाह ने बंगाल के लिए टारगेट सेट किया था। यहां से हमें कम से पचास फीसदी यानी 22 सीटें जीतने चाहिए।
गौरतलब है कि अपनी इसी रणनीति के तहत भाजपा दिसंबर के शुरुआती हफ्तों में बंगाल ट्रेन अभियान शुरू करने जा रही है। इसके अलावा राज्य के विभिन्न हिस्सों में तीन रथ यात्राएं भी निकाली जाएंगी। रथ यात्रा बीरभूम, कूच बेहर और साउथ 24 परगना जिले के सागर से ध्वजांकित की जाएगी।
ये यात्राएं 5, 7 और 9 नवंबर को निकाली जाएंगी। इस मामले में घोष का कहना है कि जो यात्राएं निकाली जाएंगी उनमें रथ नहीं होंगे मगर
यह भी पढ़ें: शिवराज सिंह चौहान के लिए वोट मांगने गई पत्नी को जनता ने सुनाई खरी-खोटी
इसमें केंद्र सरकार की उपलब्धियों की झांकियां होंगी। इसमें ममता सरकार के कामकाज की खामियों को दर्शाया जाएगा।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More