सरदार पटेल की मूर्ती में जितने खर्च हुए,उतने में 5 IIM, 2 IIT और इसरो के 6 मिशन पूरे हो जाते

0 14
गुजरात में बने लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल के स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को लेकर एक धड़े से यह आवाज भी उठ रही है कि जितने रुपये इस विशाल स्मारक को बनाने में खर्च किए गए, उतने में कई जन हितैषी काम हो सकते थे।
इंडिया स्पेंड डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक सरदार पटेल की प्रतिमा बनाने में आई 2989 करोड़ रुपये की लागत में दो नए इंडियन इंस्स्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी) परिसर, पांच इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) परिसर तैयार किए जा सकते हैं और
6 बार मंगल ग्रह के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) मिशन का चलाया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक एक आईआईटी कैम्पस बनाने की अनुमानित लागत 1167 करोड़ रुपये आएगी इस प्रकार मूर्ति में आए खर्च में दो आईआईटी बन सकते हैं।
वहीं, एक एम्स तैयार करने का खर्च 1103 करोड़ बताया गया है यानी स्टेच्यू ऑफ यूनिटी की लागत में दो एम्स बनकर तैयार हो सकते हैं।
यहीं नहीं मूर्ति की लागत में 539 करोड़ रुपये में बनने वाले पांच नए परमानेंट आईआईएम कैम्पस बनाए जा सकते हैं। 528 करोड़ रुपये में लगने वाले पांच 75 मेगावाट बिजली बनाने वाले पांच नए सोलर पावर प्लांट लगाए जा सकते हैं।
मूर्ति की कीमत में 450 करोड़ रुपये वाले 6 मंगल मिशन और 800 करोड़ की कीमत वाले तीन चंद्रयान-2 मिशन चलाए जा सकते हैं।
रिपोर्ट में कहा गया है कि स्टेच्यू ऑफ यूनिटी में आई लागत केंद्र सरकार द्वारा 2017-18 में गुजरात की राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के लिए आवंटित 365 करोड़ रुपये से आठ गुना ज्यादा है और
राज्य सरकार के द्वारा मंजूर 602 करोड़ रुपये की 56 नई योजनाओं और योजनाओं के अंतर्गत जारी 32 परियोजनाओं की करीब पांच गुना है।
1090 करोड़ रुपये की गुजरात में चल रही दो वॉटर पाइपलाइन परियोजनाओं से मूर्ति की लागत दोगुनी से भी ज्यादा है। पहली कडाना जलायश की परियोजना है जिसके जरिये दाहोद और महिसागर जिलों की 10,000 हेक्टेयर जमीन सींची जा सकेगी। दूसरी परियोजना सूरत जिले की 1800 हेक्टेयर जमीन की सिंचाई को लेकर है।
रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात सरकार ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में 1114 करोड़ रुपये के प्रस्ताव को शामिल करने के लिए कहा है। मूर्ती की रकम उसके दोगुने से भी ज्यादा है।
गुजराद सरकार के द्वार दिए गए प्रस्ताव के मुताबिक 40192 हेक्टेयर जमीन की सिंचाई, 162 लघु सिंचाई योजनाओं में मरम्मत, नवीनीकरण और बहाली के लिए बीमा कवर लेना और 425 छोटे चेक डैम्स का निर्माण करना है। बता दें
यह भी पढ़ें: बीजेपी कार्यकर्ताओं ने रन फॉर यूनिटी कार्यक्रम में की जमकर मारपीट
कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विंध्याचल और सतपुड़ा की पहाड़ियों के बीच नर्मदा नदी के टापू स्थित सरदार पटेल के स्टेच्यू ऑफ यूनिटी का बुधवार (31 अक्टूबर) को उनकी 143वीं जयंती पर अनावरण किया।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More