दस साल पुराना लाइसेंस दिखाओ और ड्राईवर-कंडक्टर की नौकरी पाओ

0 13

मंगलवार को अंबाला छावनी बस अड्डे पर अस्थायी नौकरी के लिए खुली भर्ती की गई. दस साल पुराना लाइसेंस दिखाओ और कंडक्टर-ड्राइवर की नौकरी पाओ की तर्ज पर बेरोजगारों को अस्थायी काम मिला.

इन युवाओं को ठेकेदार के माध्यम से 600 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से बसें चलाने और टिकटें काटने का मेहनताना मिलेगा. वहीं, अधिकारियों ने 60 से अधिक रोडवेज बसें चलाने का दावा किया है.

रोडवेज कर्मचारियों द्वारा शुरू की गई हड़ताल को बुधवार को कल नवां दिन हो गया है. हड़ताल का अब जनता पर असर दिखना कम हो गया है, लेकिन सरकारी राजस्व पर खासा असर दिख रहा है,
क्योंकि कर्मचारियों द्वारा बसें न चलाए जाने पर अफसरों ने नौसीखियों के हाथों में बसों का स्टेयरिंग और टिकटों का थैला थमा दिया है.
भर्ती अंबाला छावनी बस अड्डे पर की जा रही है. ऐसे में मंगलवार से चालक ही नहीं परिचालक पदों के लिए भी खुली भर्ती शुरू कर दी गई. छावनी बस अड्डे पर खुले मंच पर युवाओं को अस्थायी नौकरी देने के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई.
यहां केवल 10 साल पुराने कंडक्टर व हैवी ड्राइविंग लाइसेंस वालों को ही तवज्जो दी गई. जिनके पास दस या इससे पुराने बने लाइसेंस थे उनके नाम दर्ज करके उन्हें कंडक्टर के पद पर अस्थायी नौकरी दे दी गई.
रोडवेज कर्मियों की एक कमेटी ने इन बेरोजगारों के दस्तावेजों की जांच की और इनके नाम पता सहित अन्य सभी जानकारियां अपने पास रजिस्टर में दर्ज की.
स्कूल बसों को बंद कर दिया गया है. पिछले आठ दिनों से रोडवेज के कर्मचारी किलोमीटर स्कीम के खिलाफ धरने पर बैठे हैं.
सरकार के साथ यूनियन पदाधिकारियों की कई दौर की बात हो चुकी है, लेकिन रोडवेज कर्मी और सरकार दोनों ही अपनी-अपनी जिद पर अड़े हैं. इसी कारण हड़ताल भी अब खत्म होने के बजाए आए दिन आगे बढ़ाई जा रही है.
यह भी पढ़ें: पूर्व राष्‍ट्रपति ओबामा और क्लिंटन के घर डाक से भेजा गया बम
ऐसे में सरकार ने जनता को राहत दिलाने के लिए आउट सोर्सिंग के तहत चालक व परिचालकों की अस्थायी भर्ती शुरू कर दी है.

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More