बजट सत्र
भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र 18 फरवरी से शुरू हो रहा है। सोमवार को वित्तमंत्री तरुण भनोत चार महीने के लिए अंतरिम बजट पेश करेंगे। डेढ़ महीने बाद लोकसभा चुनाव को देखते हुए बजट में आम जनता को राहत देने घोषणा वित्त मंत्री कर सकते हैं। सत्र 21 फरवरी तक चलेगा।
सत्र के हंगामेदार होने के आसार है। विपक्ष सरकार को किसानों के कर्जमाफी और बिगड़ती कानून व्यवस्था पर घेरेगा। चार दिन के इस सत्र के लिए विधायकों ने 700 प्रश्न विधानसभा सचिवालय को भेजे हैं।
बताया जा रहा है कि बजट सत्र में  89 हजार करोड़ रुपए का हो सकता है लेखानुदान हो सकता है। विधानसभा में लाए जाने वाले करीब 70 हजार करोड़ के लेखानुदान और थर्ड सप्लीमेंट्री बजट की राशि 18 हजार करोड़ रुपए को मिलालें तो कुल 89439 हजार करोड़ के वोट एन अकाउंट को मंजूरी दे दी गई है। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि कमलनाथ सरकार का बजट प्रदेश की आम जनता को राहत देने वाला होगा।
सरकार जय किसान ऋण माफी योजना के बाद किसानों को रियल टाइम वॉलेट देने का ऐलान भी कर सकती है। किसानों को प्रति एकड़ फसल के हिसाब से लिमिट मिल सकती हैं, ताकि किसान पैसे ना होने पर खाद बीज वॉलेट के जरिए खरीद सकें। उद्योगों को बढ़ावा देने नगरीय निकायों व उद्योग विभाग द्वारा अलग-अलग लिए जाने वाले प्रॉपर्टी टैक्स में सरकार राहत दे सकती है, वहीं राजस्व बढ़ाने के लिए सरकार शराब के साथ विलासिता की वस्तुओं पर टैक्स को बढ़ा सकती है। सरकार चालू वित्तीय वर्ष के लिए तृतीय अनुपूरक बजट भी प्रस्तुत कर सकती है।
कांग्रेस और भाजपा विधायक दल की बैठक रविवार रात बुलाई गई। कांग्रेस की बैठक मुख्यमंत्री निवास पर होगी, वहीं भाजपा विधायक दल की बैठक पार्टी कार्यालय में आयोजित की गई है। सूत्रों का कहना है कि लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा की रणनीति सदन प्रभावी भूमिका बनाने की है।
प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था, किसानों से वादा खिलाफी, भाजपा सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं को बंद करने पर भाजपा विधायक सदन में हंगाना कर सकते हैं। विधायक दल की बैठक में विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव और पूर्व मुख्यमत्री शिवराज सिंह चौहान विधायकों का मार्ग दर्शन करेंगे। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा है कि जब से कांग्रेस की सरकार प्रदेश में बनी है, अपराध का ग्राफ काफी तेजी से बड़ा है। अपहरण उद्योग फिर से पनप गया है। चित्रकूट में दो बच्चों के अपहरण के तीन दिन बाद भी कुछ पता नहीं चला है। वहीं कांग्रेस सरकार ने प्रदेश में ट्रांसफर इंडस्ट्री शुरू कर दी है।
कांग्रेस विधायक दल की मुख्यमंत्री निवास पर होने वाली बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ मंत्रियों और विधायकों को विपक्ष के हमले से निपटने के टिप्स देंगे। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने मंत्रियों से सदन में पूरी तैयारी के साथ आने कहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.