महीने की पहली तारीख को मंत्रालय में नहीं हुआ वंदे मातरम का गायन, सालों पुरानी परंपरा टूटी

0 13
भोपाल। महीने की पहली तारीख पर मंत्रालय के बाहर लॉन में वंदे मातरम का गायन नहीं हुआ। इसके साथ ही सालों से चली आ रही एक परंपरा टूट गई।
हालांकि कमलनाथ सरकार के मंत्री जीतू पटवारी और पीसी शर्मा ने कहा कि परंपरा तोड़ने की सरकार की कोई मंशा नहीं है। जानकारी लेनी होगी कि क्यों इसका आयोजन नहीं किया गया।
मंत्रालय के बाहर पार्क में वंदे मातरम का गायन हर महीने की पहली तारीख पर होता था। ये परंपरा पिछले 13-14 सालों से निभाई जा रही थी।
मंत्रालय के सामने स्थित पार्क में अधिकारी-कर्मचारी इस कार्यक्रम में शामिल होते थे और इसके बाद काम शुरू होता था। लेकिन नए साल की पहली तारीख को वंदेमातरम का गायन नहीं हुआ। इस मामले में सरकार की तरफ से कोई बयान नहीं आया है। पर भाजपा ने इसे लेकर नाराजगी जाहिर की है।
तत्कालीन मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने 2004 में इस परंपरा को शुरू किया था। तब से हर महीने की पहली तारीख को मंत्रालय के पार्क में सभी अधिकारी-कर्मचारी वंदे मातरम का गायन कर काम शुरू करते थे। माना जा रहा है कि कांग्रेस भाजपा सरकार की योजनाओं को एक-एक कर बंद कर रही है।
प्रदेश के कानून मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि वंदे मातरम सिर्फ भाजपा या उनकी सरकार का नहीं है। वंदे मातरम कांग्रेस और पूरे देश का है। इसलिए इसे नहीं गाने या फिर इस परंपरा को बंद करने की बात गलत है।
उन्होंने कहा कि वे पता करेंगे कि ये आयोजन क्यों नहीं हुआ। दूसरी तरफ प्रदेश के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने भी कहा कि वंदे मातरम पर सबका अधिकार है। उन्होंने कहा कि सरकार नई बनी है,
ऐसे में अधिकारी-कर्मचारी थोड़े ज्यादा व्यस्त हैं, लेकिन मैं पता करूंगा कि ये आयोजन क्यों नहीं हो पाया। पर हम वंदे मातरम गायन की परंपरा को जारी रखेंगे।
उधर भाजपा ने वंदे मातरम गायन नहीं होने पर नाराजगी जताई है। भाजपा के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा कि आज वंदे मातरम का गायन बंद किया गया है,
यह भी पढ़ें: कमलनाथ सरकार का फैसला- बसपा कार्यकर्ताओं पर लगे केस होंगे वापस
आने वाले समय में मध्य प्रदेश में भारत माता की जय बोलने पर भी प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। यही कांग्रेस की संस्कृति है। कांग्रेस देश के टुकड़े करने वालों का समर्थन करती है और जो देश की बात करता है, उन्हें अपमानित करती है।

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More