अच्छी और स्वस्थ त्वचा के लिए पौष्टिक आहार जरूरी होता है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि विटामिंस की कमी से कई समस्याएं हो सकती हैं। भोजन से तो हमें विटामिंस और मिनरल्स मिलते ही हैं।

 

अगर इनसे युक्त चीजों का अलग तौर पर भी इस्तेमाल किया जाए तो कहने ही क्या…। आप अगर साफ- सुथरी, निखरी त्वचा पाना चाहती हैं तो विटामिन थेरेपी एक ऐसी चीज है जिसका लंबे समय तक कोई नुकसान नहीं होता।
दरअसल अब विटामिंस सीरम और कैप्सूल के रूप में मिलने लगे हैं, जिन्हें त्वचा पर आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। सही तरीके से विटामिंस के इस्तेमाल से त्वचा खूबसूरत बन सकती है।
डर्मेटोलॉजिस्ट्स का कहना है कि विटामिन थेरेपी आधुनिक थेरेपी है। विटामिंस के लाभ की जानकारी से आप त्वचा में आसानी से निखार व कसाव ला सकती हैं।
विटामिन ए त्वचा में झुर्रियों को आने से रोकने में मदद करता है। यह त्वचा में कसाव लाकर उसे चमकदार बनाता है। साथ ही त्वचा को क्रैक्स से बचाता है और उसे स्मूद बनाता है। विटामिन ए कद्दू, पपीता, गाजर, दूध, दही आदि में पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।
फेसपैक, उबटन, स्क्रब और इनके फेशियल से चेहरे को जरूरी विटामिन ए प्राप्त होगा और त्वचा पर झुर्रियां नजर नहीं आएंगी। त्वचा में कसाव लाने के लिए पके पपीते के गूदे में ग्लिसरीन मिलाकर चेहरे पर 15-20 मिनट तक लगाएं। सूखने पर गीला करके हलके हाथों से मलते हुए छुड़ाएं।
त्वचा की ऊपरी परत को पोषण और सुरक्षा देने के लिए विटामिन ई बहुत जरूरी है। यह त्वचा का रूखापन हटाता है और झुर्रियों को आने से रोकता है।
यह एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट है और त्वचा को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाता है। त्वचा के टिश्यू रिपेयर करने में इसका प्रमुख रोल होता है। यह सूर्य की तेज और नुकसानदेह यूवी किरणों से हुए नुकसान की भी भरपाई करता है।
वैसे तो विटामिन ई के कैप्सूल बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं। अगर त्वचा अत्यधिक रूखी है तो विटामिन ई लगाने और खाने से गजब का बदलाव नजर आएगा।
विटामिन ई बादाम, एवोकैडो, ऑलिव ऑयल, कीवी और टमाटर में भरपूर मात्रा में पाया जाता है। सप्ताह में दो-तीन बार इनका इस्तेमाल फेसपैक के रूप में करने से काफी लाभ होगा।
लगभग सभी ब्यूटी क्रीम का मुख्य हिस्सा विटामिन सी होता है। यह शरीर में कोलेजन का उत्पाद करता है, जो एक तरह का प्रोटीन है। यह त्वचा की संरचना करने में मदद करता है।
पैंतीस की उम्र के बाद कोलेजन बनने की गति बहुत धीमी होने लगती है, इस कारण त्वचा का लचीलापन कम होता जाता है और वह ढीली पड़ने लगती है। पैंतीस के बाद त्वचा को विटामिन सी की बहुत जरूरत होती है। न सिर्फ शरीर, बल्कि चेहरे के लिए भी विटामिन सी की सख्त जरूरत होती है।
यह त्वचा में कसाव व चमक लाता है। विटामिन सी जलन भी दूर करता है। इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स फ्री रेडिकल्स को न्यूट्रीलाइज करते हैं, जिससे कोशिकाएं क्षतिग्रस्त नहीं होतीं और
आप लंबे समय तक जवां नजर आती हैं। यह खट्टे और रसदार फलों जैसे संतरा, मौसमी, कीनू, नींबू, अंगूर, के अलावा स्प्राउट्स और शिमला मिर्च में भी पाया जाता है।
विटमिन सी त्वचा की रंगत में भी निखार लाता है। इसका प्रयोग सही मात्रा में किया जाए तो त्वचा में कमाल का बदलाव देखा जा सकता है। विटामिन सी के कैप्सूल भी आते हैं और आप इन्हें चेहरे पर लगा सकती हैं।
एक और खास बात कि यह जैसे ही हवा के संपर्क में आता है, ऑक्सीडाइज हो जाता है और असर नहीं कर पाता। ऐसे में चेहरे पर लगाने के लिए खासतौर से बंद कैप्सूल आते हैं। इन्हें खोलते ही लगाना होता है।
अगर ये खुला पड़ा रह जाए तो बेकार हो जाता है। इनमें विटामिंस होते हैं इसलिए इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता। इन्हें आप अगर दोबारा भी लगाना चाहें तो भी कोई नुकसान नहीं होता।
जिन लोगों को दवाएं लेने या कोई सर्जरी कराने से एतराज है, उनके लिए तो यह बेहद फायदेमंद है।
डॉक्टर की सलाह पर आप अपनी त्वचा की किस्म और जरूरत के मुताबिक इनका इस्तेमाल कर सकती हैं। हालांकि खट्टे फलों वाले कोई भी पैक का प्रयोग करने से पहले त्वचा रोग विशेषज्ञ या किसी ब्यूटी एक्सपर्ट्स से संपर्क जरूर करें।
यह भी पढ़ें: चाइनीज़ लाइटों के आगे बुझ रही है भारतीय दीपों की
यह तो लगभग हम सभी जानते हैं कि अच्छी सेहत के लिए विटामिंस फायदेमंद होते हैं,
पर क्या आपको पता है कि मुलायम और चमकदार त्वचा के लिए भी विटामिंस काफी फायदेमंद साबित होते है।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.